इन दो भाइयों ने 18000 बोतल सैनिटाइजर खरीदा, और फिर अमेजन पर 5000 में बेच रहे थे एक पीस...

एक तरफ पूरे अमेरिका (USA) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते मामलों के चलते लॉकडाउन और इमरजेंसी की स्थिति है लेकिन ऐसे माहौल में भी कुछ लोग सिर्फ अपना फायदा ही देख रहे हैं. अमेरिका के टेनेसी में एक मामला सामने आ या है जिसमें दो भाइयों ने कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनज़र सैनिटाइजर (Hand sanitizer) की बढ़ती मांग को देखते हुए इसकी 18000 बोतलें खरीद कर जमा कर लीं. इसके बाद इन्होने अमेजन (Amazon) और दूसरे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए इन्हें 70 डॉलर (करीब 5000 रुपए) में बेचना शुरू कर दिया.
न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक टेनेसी में रह रहे दो भाइयों मैट और नोआ कॉल्विन को सैनिटाइजर की जमाखोरी के आरोप में पकड़ा गया है. मैट ने अपने कबूलनामे में बताया है कि 1 मार्च को जैसे ही इन्हें पता चला कि कोरोना वायरस के चलते अमेरिका में पहली मौत हो गयी है, इन्होने अपनी कार उठाई और आस-पास मौजूद सभी स्टोर्स से सारी सैनिटाइजर की बोतेलें खरीद कर ले आए. ये दोनों भाई सिर्फ इतने पर ही नहीं रुके इन्होने 1300 मील का सफ़र तय किया और टेनेसी, केंटकी और आस पास के इलाके की हर दुकान से सैनिटाइजर खरीद लिया. इनका प्लान था कि सारे शहर में मौजूद हर सैनिटाइजर की बोतल को खरीद लेना है.

अमेजन के जरिए पैसे कमाने का था प्लान

मैट ने बताया कि जब इन्हें भरोसा हो गया कि अब इलाके की किसी दुकान में सैनिटाइजर नहीं बचा है तो इन्होने अमेजन पर एड पोस्ट करना शुरू किया. इन्होने पहला एड 300 बोतलों का डाला जिनकी कीमत 8 से 70 डॉलर तक वसूल की. यहीं से अमेजन को सहक हुआ और उन्होंने छानबीन शुरू की. अमेजन ने पाया कि सिर्फ ये दो भाई ही नहीं कई ऐसे लोग थे जिन्होंने सैनिटाइजर की बोतलें पहले ही खरीद लीं थीं और फिर उसे बाकी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स पर भी बेच रहे थे. बता दें कि अमेरिका मके ज्यादातर इलाकों में लोग सैनिटाइजर और टॉयलेट पेपर की भारी कमी से जूझ रहे हैं.

पकड़े गए तो दान कर दिया

अमेजन की शिकायत के बाद अटॉर्नी जनरल ऑफ़ टेनेसी ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है. हालांकि पकड़े जाने के बाद मैट और उसके भाई नोआ ने अमेरिका के लोगों से माफ़ी मांगी है और सैनिटाइजर की इन सभी बोतलों को पास ही के एक चर्च को दान में देने की बात कही है. पूछताछ में सजा से बचने के लिए मैट ने ये भी कहा कि उसका परिवार गरीब है और उन्हें इस गरीबी से बाहर निकालने के लिए उसने ये प्लान बनाया था. अब उसे अपनी गलती का अहसास हो गया है और ये सब वो दान कर देना चाहता है.
Loading...