गर्भवती ने 200 किमी पैदल पूरा किया सफर, नोएडा से पति के साथ आई महिला ने ग्रामीणों से बयां किया अपना दर्द

नोएडा में रह रहे दंपति लॉकडाउन होने पर वहां से पैदल ही गांव के लिए निकल पड़े। गांव पहुंचने पर गर्भवती अंजू ने बताया वह करीब 200 किमी पैदल चली है। यह बात ग्रामीणों से बताते हुए उसके आंखों में आंसू आ गए। उसने कहा बढ़ते कोरोना के कारण बच्चों की चिंता हुई, इसलिए ऐसा कदम उठाया। वह 25 मार्च को नोएडा से निकली थी। औंता गांव निवासी अंजू ने बताया वह भूमिहीन है। 
पति अशोक नोएडा में मकान निर्माण में मजदूरी करता है। बताया वह आठ माह की गर्भवती है। होने वाले बच्चे को लेकर वह पति के साथ पहले ही गांव आना चाहती थी। मगर मजदूरी मिलने में देरी होने से वह नहीं आ सकी। सीएचसी में स्वास्थ्य परीक्षण कराने के दौरान महिला के चेहरे पर थकान थी।

पूछने पर उसके आंसू निकल आए। महिला ने बताया उसकी हालत पर तरस खाकर रास्ते में कई राहगीरों ने मदद की। उसे व उसके पति को कई राहगीरों ने अपने वाहनों से छोड़कर मदद की। लेकिन यह मदद चंद किमी तक ही हो पाई। बताया पति-पत्नी करीब 200 किलोमीटर का सफर पैदल ही पूरा किए हैं।

जब पैर जवाब दे जाते तो कहीं छांव में बैठकर आराम करते थे। बताया रविवार सुबह उरई (जालौन) पहुंचने पर राठ के लिए एक लोडर वाहन मिला। राठ सीएचसी में स्वास्थ्य परीक्षण कराने के बाद गांव पहुंचे। अंजू ने कहा मजबूरी में अपना घर छोड़कर परदेश जाना पड़ता है।
Loading...