लॉकडाउन : 200 किमी पैदल चलकर पहुंचे गांव, अब घरवाले दरवाजा खोलने को नहीं हैं कोई तैयार !

कोरोना वायरस की महामारी के लिए शासन प्रशासन द्वारा लोगों को जागरुक किया जा रहा है और इसका असर भी खूब दिखने लगा है. इसी कड़ी में पटना से अपने घर याने यूपी के देवरिया लौटे तीन युवकों को उनके परिजनों ने घर में घुसने तक नहीं दिया. परिवार ने उनसे कहा कि पहले अपनी कोरोना की जांच कराओ, इसके बाद ही उनके लिए घर के दरवाजे खुलेंगे.
सदर कोतवाली क्षेत्र के एक गांव के रहने वाले तीन युवक पटना में रहकर नौकरी करते हैं. लॉकडाउन होने पर वाहनों का आवागमन बंद है. यह तीनों युवक सोमवार की सुबह पैदल चलकर अपने-अपने घर पहुंचे, लेकिन परिवार के लोगों ने उन्हें घर में घुसने से साफ मना कर दिया. घरवालों ने कहा कि पहले कोरोना की जांच करवाओं फिर वह घर आ सकेंगे.

तीनों युवक जांच के लिए जिला अस्पताल पहुंचे, जहां चिकित्सकों ने कोरोना की जांच नहीं होने की बात कही. इसके बाद तीनों युवक शहर के अलग-अलग पैथोलोजी पर पहुंच कर बात किये. लेकिन हर जगह से उन्हें नाकामी मिली. इसकी जानकारी जब कुछ समाज सेवियों को हुई तो जिला प्रशासन के सहयोग से तीनों युवकों की जिला चिकित्सालय में थर्मल जांच कराई गई. समाचार लिखे जाने तक ये तीनों युवक जिला चिकित्सालय में ही बैठे हुए थे.
Loading...