पाक डॉक्टर की इलाज के दौरान हो गई मौत, अब विडियो हुआ वायरल, लोगों से कोरोना को मजाक न समझने की कर रहे थे अपील...

पाकिस्तान में कोरोना वायरस से जिन 7 लोगों की मौत हुई है उनमें गिलगित बाल्टीस्तान के एक युवा डॉक्टर भी शामिल हैं। डॉ.उसामा रियाज (26) के पास मरीजों की जांच करते वक्त जरूरी मास्क और ग्लव्स तक नहीं थे। लेकिन इस बात की परवाह किए बिना वह मरीजों के इलाज में जुटे रहे। पाकिस्तान में हीरो बनकर उभरे उसामा का एक विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें वह लोगों से अपील कर रहे हैं कि वे कोरोना का मजाक न बनाएं और गंभीरता से लें। अपने परिवार की खातिर, कौम की खातिर घर में रहें।
विडियो में वह अस्पताल की बेड पर लेटे हैं और उन्हें बोलने में तकलीफ हो रही है। उन्होंने कहा, 'मैं अपील करता हूं कि इस वायरस को मजाक न समझें। खाने पीने के पीछे न भागें। इसे गंभीरता से लें। अपनी फैमिली के लिए, अपनी कौम और आसमपास के लोगों के लिए, खुदा के लिए अपना ख्याल रखें। आपमे लक्षण हैं तो खुद को घर तक सीमित कर दें। फेसबुक, वॉट्सऐप पर कोरोना का मजाक बनाया जा रहा है। ये मजाक नहीं है। खुद पर रहम करें। मैं खुशकिस्मत हूं मेरा इलाज हो रहा है। यह विडियो जितना ज्यादा हो सके शेयर करें।'

उनकी मौत के बाद गिलगित बाल्टीस्तान के मंत्री ने उन्हें देश का हीरो करार दिया तो वहीं ओसामा के दोस्तों ने मंत्री को ट्रोल कर कहा कि हमें मास्क तो उपलब्ध कराइए। रियाज उस 10 सदस्यीय डॉक्टरों की टीम का हिस्सा थे जो ईरान से वापस लौटे लोगों की जांच में जुटी थी। उनके पास जरूरी मास्क और ग्लव्स तक नहीं थे। उन्हीं में से एक मरीज के संपर्क में आने पर उनकी मौत हो गई। रियाज के दोस्त बताते हैं कि उन्होंने अपने हेल्थ की परवाह किए बिना देर रात तक मरीजों की सेवा की।

वहीं, अमेरिका ने भी ओसामा की तारीफ की है। साउथ ऐंड सेंट्रल एशियन मामलों की प्रिंसिपल डेप्युटी असिस्टेंट सेक्रटरी एलिस वेल्स ने ट्वीट किया, 'हम साउथ और सेंट्रल एशिया में मरीजों की मदद करने और हमें सेफ रखने के लिए अपनी जान खतरे में डाल रहे बहादुर मेडिकल कर्मी को सलाम करते हैं। डॉ.उसामा रियाज की मौत की खबर से दुख हुआ, वह पाकिस्तान में कोविड19 के खिलाफ लड़ाई में फ्रंटलाइन में थे। अमेरिका आपके साथ खड़ा है।'
Loading...