पत्नी के साथ दवा लेने जा रहे पति को दरोगा ने बेरहमी से पीट दिया...

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से लड़ने के लिए देश में 21 दिन का लॉकडाउन किया गया है। लॉकडाउन को तोड़ने वालों पर पुलिस सख्ती से पेश आ रही है। लेकिन पुलिस कभी-कभी इसी रूप से ऐसे लोगों के खिलाफ भी पेश आ रही है, जिन्हें अतिआवश्यक काम से घर से बाहर जाना पड़ा हो और उनके साथ मारपीट की है। वाराणसी में ही कुछ ऐसा ही देखने को मिला है, जहां पूर्व सभासद मणि सिंह पत्नी के साथ दवा लेने जा रहे थे। तो रामनगर चौराहे के पास एक दरोगा ने उन्हें जमकर पीटा। आरोप है कि इस उनकी शिक्षिका पत्नी के साथ भी बदसलूकी की गई है।
दरअसल, 21 दिन के लॉकडाउन का पुलिस सख्ती से पालन करा रही है। सरकार ने इस दौरान राशन, दूध, किराना, सब्जी और दवा की दुकानों के खुलने का समय भी तय किया है। इस दौरान कई ऐसे लोग लापरवाही बरत रहे हैं और सड़क पर घूम रहे हैं। ऐसे में पुलिस ऐसे लोगों पर सख्ती बरत रही है। लेकिन कई बार कुछ ऐसे लोग पुलिस के डंडों का शिकार हो जाते हैं जो घर से किसी अतिआवश्यक काम से निकले हों।

नए नियम के अनुसार, बुधवार से अगले निर्देश तक वाराणसी में सुबह 6 से 12 बजे तक अनाज, गल्ला, किराना, जनरल स्टोर, दूध, सब्जी, फल की दुकान और पेट्रोल पंप, सीएनजी स्टेशन खुलेंगी। सुबह 6 से 10 बजे तक सब्जी, फल और दूध की थोक मंडियां खुलेंगी। थोक मंडियां केवल रिटेल दुकानदारों को सामान बेच सकेंगी। किसी अन्य ग्राहक को सीधे सामान नहीं बेच सकेंगी। ये सप्ताह में 3 दिन, मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को 9 से 2 खुलेंगी।

बाकी के 4 दिन ये 9 से 2 खुल सकती हैं, परंतु केवल अपना सामान लोडिंग अनलोडिंग करेंगी। इन चार दिन कोई रिटेलर इनके यहां नहीं आ सकता। बुधवार को अनाज, गल्ला, रिटेल की थोक मंडियां बंद रहेंगी। दवाई की थोक मंडी प्रतिदन 9 से 2 तक खुल सकती हैं। इनकी होम डिलीवरी पूरे दिन शाम 6 बजे तक हो सकती है। दूध सब्जी, फल रसोई गैस गल्ला, राशन दवाई कूरियर, डाक ये शाम 5 बजे तक खुल सकते हैं।
Loading...