शहरों से हजारों मजदूरों के पलायन पर सिब्बल का पीएम से सवाल, लॉकडाउन से पहले तैयारी क्यों नहीं किए?

कोरोना वायरस की वजह से देश में चारों तरफ अफरा- तफारी का माहौल है। सबसे ज्यादा मुश्किल में वो दिहाड़ी मजदूर हैं जो दो जून की रोटी कमाने के लिए शहर आए थे, लेकिन अब उनकी रोजी-रोटी छिन चुकी है। यही वजह है कि शहरों से हजारों प्रवासी मजदूर अपने मूल राज्यों के लिए सैकड़ों किमी पैदल चलने के लिए मजबूर हो गए। 
इस पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कथित रूप से 21 दिन की राष्ट्रव्यापी घोषणा करने से पहले कोई उचित तैयारी नहीं करने का आरोप लगाया। कपिल सिब्बल ने ट्वीट कर कहा, “मोदीजी क्यों? जनता कर्फ्यू के लिए, चार दिन पहले नोटिस और 21 दिन के लॉकडाउन के लिए सिर्फ चार घंटे का नोटिस। लॉकडाउन से पहले कोई तैयारी नहीं। 
प्रवासी बिना भोजन, अपने घर पहुंचने के लिए 200 किमी तक पैदल चल रहे हैं। राजमार्गों पर फंसे लाखों लोग अस्पष्ट और अक्षम हैं।" पिछले तीन दिनों से हजारों मजदूर अपने पैतृक गांवों और कस्बों तक पहुंचने के लिए बसों में सवार होने की उम्मीद में दिल्ली-उत्तर प्रदेश की सीमा का चक्कर लगा रहे हैं। इसी पर कपिल सिब्बल ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। लॉकडाउन के बीच देश में कोरोना वायरस का कोहराम जारी है। देश में अब तक 26 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 1000 के पार पहुंच गई है।
Loading...