चार्टर्ड प्लेन से अपने घर पहुंचे रईस घरानों के बच्चे, खर्च हुए करोड़ों..

कोरोना वायरस से देश में दहशत का माहौल है। कई देशो के बीच एयर लॉकडाउन होने के कारण बहुत से भारतीय, ख़ासकर कर भारतीय बच्चे जो विदेशों में पढ़ रहे हैं, फंस गए। फ्लाइट्स बंद होने के कारण उनकी स्वदेश वापसी नहीं हो पा रही लेकिन देश में ऐसे भी कई रईस लोग हैं जिन्होंने लॉकडाउन होने की संभावनाओं को पहले ही भांप लिया और विदेशों में बसे अपने बच्चों को प्राइवेट जेट से वापस बुला लिया।
जानकारी के मुताबिक लॉकडाउन से दो हफ्ते पहले 102 प्राइवेट चार्टर्ड फ्लाइट ने भारत में लैंडिंग की है। अमीर घरानों से ताल्लुक रखने वाले लोगों को इन प्राइवेट विमानों से भारत लाया गया, जिसमें करोड़ों रुपये खर्च हुए। अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि ब्रिटेन में पढ़ रहीं सिर्फ 2 लड़कियों को मुंबई लाने में 90 लाख रुपये खर्च हुए।

सूत्रों के मुताबिक, मुंबई के एक कारोबारी परिवार की ये दोनों लड़कियाँ ब्रिटेन की अलग-अलग यूनिवर्सिटी में पढ़ती हैं। जिन्होंने लंदन एयरपोर्ट से 16 मार्च को फॉल्कन 2000 जेट से मुंबई के लिए उड़ान भरी। चौकाने वाली बात ये हैं कि दोनों के लंदन से भारत आगमन तक का खर्च 90 लाख तक का बताया जा रहा है। 85 % प्राइवेट विमानों में केवल एक से तीन लोग ही सवार थे।

इतना ही नहीं भारत में लॉकडाउन घोषित होने से पहले भले ही कॉमर्शियल फ्लाइट्स पर रोक लग गयी हो लेकिन उस दौरान यूके, फ़्रांस, जर्मनी, स्विट्जरलैंड आदि तमाम देशों से कम से कम 102 प्राइवेट चार्टर्ड फ्लाइट भारत में लैंड हुए। इन सभी फ्लाइट्स का इंतज़ाम एक ही एविएशन फर्म ने किया था। जिसमें अमीर परिवारों के बच्चों समेत बुजुर्गों को भी लाया गया। बताया गया कि इन 85 % प्राइवेट विमानों में केवल एक से तीन लोग ही सवार थे।
Loading...