कोरोना के समय पानी के पाउच में बेच रहे थे ऐसी चीज़ें की जानकर आप हैरान हो जाएंगे

कोरोना वायरस के चलते पूरे राज्य में देशी, अंग्रेजी शराब दुकानें बंद है, इसका फायदा गांव-गांव में महुआ शराब बनाने वाले लोग उठा रहे हैं। एक ओर पूरे शहर और में लॉकडाउन है, घर से बाहर निकलना लोगों का मना है, वहीं शराब कोचिए अवैध शराब तैयार कर उसे प्लास्टिक के पाऊच में भर रहे हैं। कोरोना लिखकर सजा रहे हैं, फिर झोले में भरकर बिक्री के लिए गांव-गांव पहुंच रहे हैं। लोगों को कोरोना से बचने रामबाण बता रहे हैं। इतना होने के बाद भी आबकारी विभाग को कुछ नहीं मालूम। छापेमारी करना भी मुनासिब नहीं समझ रहे हैं।
ग्रामीणों ने बताया कि सुबह, शाम अवैध शराब बेचने वाले लोगों के घर के सामने भीड़ सा माहौल बना रहता है। इसके साथ ही देशी अंग्रेजी शराब अवैध तरीके से स्टॉक करके रखे हैं और मनमाने कीमतों में बिक्री कर रहे हैं।कोट मीसोनार से ग्रामीण क्षेत्रों महुआ शराब की सप्लाई होने की खबर मिली है। इन गांवों में पिपरसत्ती पोड़ी दल्हा, फरहाद, अर्जुनी, रसेड़ा, करुमहू, अमेरी सहित अन्य गांवों में महुआ शराब की सप्लाई की जा रही है। 

कोटमी सोनार के इंदिरा उद्यान के पीछे, कर्रानाला बांध, पुलिया के पास, नरवाखड़ अमेरी, खैया तलाब के पास, स्टेशन मोहल्ला, सबरिया डेरा, केंवट पारा बस्ती में हो रही है। ऐसा नहीं है कि इस बात की जानकारी अबकारी और पुलिस को नही है, पर कार्रवाई करने से कतरा रहे हैं। आबकारी उडऩदस्ता जब भी छापेमारी करती है। उसे जरूर केस मिल जाता है। वहीं स्थानीय अबकारी व पुलिस को केस नहीं मिलता।  दुकान बंद करने की दी समझाइश तो आरक्षक पर भड़क उठा विधायक पति, पुलिस के साथ की धक्का-मुक्की, मामला दर्ज
Loading...