पति बोला, "मैं खिचड़ी बना लेता हूं, तुम दूध ले आओ", बीवी लौटी तो नजारा देखकर हाथ से छूटा सामान

मैं खिचड़ी बना लेता हूं, तुम बाजार जाकर दूध बच्चों के लिए लेकर आ जाओ, अपने साथ बड़ी बालिका को भी ले जाओ, पति की बात सुनकर महिला अपने दो बच्चों को साथ लेकर बाजार दूध लेने चली गई, कुछ देर बाद पत्नी बाजार से दूध लेकर वापस आई तो घर में स्थित पीछे वाला कमरे का दरवाजा बंद मिला। बार-बार पति को आवाज देने के बाद भी दरवाजा नहीं खोलने पर पत्नी ने जोर से धक्का देकर दरवाजा खोला तो अंदर का नजारा देख पत्नी के हाथ से सामान ही छूट गया। 
उसने देखा कि पति पंखे पर लटका हुआ था। पत्नी ने तुरंत कैची से साड़ी का फंदा काटा व पड़ोस से एक परिचित को बुलाकर पति को लेकर जिला अस्पताल पहुंची। जहां पर डॉक्टर ने युवक को मृत्त घोषित कर दिया। घटना नौगांव थाना अंतर्गत घोड़ा चौपाटी पर स्थित बीएसएनएल ऑफिस के पीछे बने सरकारी क्वार्टर की है। यहां पर गुरुवार देर शाम प्रतिदिन की तरह महिला ज्योति घर पर थी। 
पति मनोहर पिता नरेंद्रसिंह ठाकुर (29) घर आया तथा पत्नी से कहा कि बाजार जाकर बच्चों के लिए दूध लेकर आओ, आज घर पर खिचड़ी बना लेंगे। पति की बात सुनकर महिला अपने एक लडक़े व बालिका को लेकर बाजार चली गई। इसी दौरान मनोहर ने अपने दो अन्य बच्चों को घर के आगे वाले कमरे में भेजकर साड़ी का फंदा बनाया व पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली। शुक्रवार सुबह पीएम जिला अस्पताल में करवाकर शव परिजनों को सौंप दिया गया।

पुलिस अधिकारी पहुंचे मौके पर 
गुरुवार देर शाम की घटना व देर रात्रि में अस्पताल लाने के बाद शुक्रवार सुबह मामले की सूचना पर नौगांव पुलिस व एफएसएल अधिकारी मौके पर पहुंचे व पंचनामा बनाकर मर्ग कायम कर जांच शुरू की। पत्नी ज्योति ने बताया कि सास रुपकुंवर बाई बीएसएनएल विभाग में कर्मचारी हैं। कल सास घर पर नहीं थी। पति ने शाम को बाजार जाने का बोलकर मुझे भेज दिया। इसके बाद फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। हालाकि युवक की मौत के पीछे का कारण अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है। पुलिस भी परिवार के बयान देने का इंतजार कर रही है।
Loading...