इस मेडिकल स्टोर वाले ने इंसानियत और ईमानदारी का दिया परिचय, जानिये क्या है पूरा मामला

कछौना कस्बे के एक मेडिकल स्टोर व्यवसायी ने एक लेडी बैग लावारिस अवस्था में पाया जिसमें उपस्थित मोबाइल सेट में संपर्क नंबर पर संपर्क कर महिला को लेडी बैग सौंपकर इंसानियत व ईमानदारी का परिचय दिया। बैग में एक एंड्राइड मोबाइल सेट, एक सोने की अंगूठी व 1200 रुपए पाकर महिला बहुत खुश हुई। इस घटना को लेकर दो अजनबी परिवारों के बीच हमेशा के लिए एक यादगार रिश्ता कायम हो गया। वहीं युवा व्यवसाई ने समाज में एक अच्छा संदेश दिया।
कुछ दिन पहले कस्बा निवासी मेडिकल व्यवसायी दुर्गेश गुप्ता अपने परिजन के साथ हरदोई जा रहे थे इसी वक्त उन्हें एक लेडी बैग लावारिस अवस्था में मिला जिसमें एक एंड्राइड मोबाइल सेट, एक सोने की अंगूठी व 1200 रुपये थे। मोबाइल में कोई सिम नहीं पड़ा था और वह पैटर्न लॉक से लॉक था। 

इसे उन्होंने खुलवाया और उस मोबाइल सेट में मौजूद नंबरों पर संपर्क किया। संपर्क करने पर जानकारी मिली कि शिल्पी गुप्ता पत्नी पंकज गुप्ता निवासी फरीदीपुर दुबग्गा लखनऊ अपने मायके खजांची डोला हरदोई आते वक्त जल्दी में बैग भूल गई थीं। खबर पर परिवार के साथ उन्होंने कछौना आकर युवा मेडिकल स्टोर व्यवसायी दुर्गेश गुप्ता से अपना खोया बैग व सामान पाकर भाव विभोर हो गईं। 
शिल्पी गुप्ता ने कहा कि वह भरोसा छोड़ चुकी थीं कि उन्हें अपना बैग दोबारा वापस मिलेगा। वह इतनी भाव विभोर हो गईं। दुर्गेश गुप्ता के इस कदम की सभी ने सराहना की। वह समाज के लिए प्रेरणा स्रोत हैं। इस तरह दो अजनबी परिवारों के बीच एक यादगार रिश्ता हमेशा के लिए कायम हो गया। ईमानदारी एक ऐसी पूंजी है जो मनुष्य को मानसिक, सामाजिक व आर्थिक मजबूती देती है।
Loading...