लॉकडाउन : लखनऊ के इमाम ने कहा- "कोरोना हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकता"

मस्जिद के इमाम, मुतवल्ली समेत करीब 24 लोगों के खिलाफ लॉकडाउन तोड़ने पर एफआईआर दर्ज की है.
लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. यहां के सआदतगंज पुलिस ने एक मस्जिद के इमाम, मुतवल्ली समेत करीब 24 लोगों के खिलाफ लॉकडाउन तोड़ने पर एफआईआर दर्ज की है. एडीसीपी पश्चिमी विकास चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि रविवार दोपहर सआदत गंज पुलिस को सूचना मिली थी कि झवाई टोला इलाके में एक मस्जिद में 25- 30 लोग इकट्ठे होकर नमाज पढ़ रहे हैं. 
जानकारी पर इलाके में गश्त कर रहे सब इंस्पेक्टर मनोज पालीवाल सिपाहियों के साथ वहां पहुंच गए. एसआई मनोज पालीवाल ने मस्ज़िद के इमाम इदरीस और मुतवल्ली मोहम्मद फ़ाज़िल को कोरोना के बारे में बताया और लॉकडाउन के दौरान इकट्ठे होने पर रोक की जानकारी भी दी. एफआईआर के मुताबिक, तभी मस्ज़िद में पहले से मौजूद लोग पुलिस से उलझ गए और कहा कि कोरोना हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकता है. इस पर पुलिस और नमाजियों में बहस होने लगी. चेतावनी देने के बाद एक सिपाही ने पूरे हंगामे की वीडियो बनाना शुरू कर दी जिसके बाद ज्यादातर लोग अपने अपने घरों की ओर चले गए.

इस पूरे मामले पर एसआई मनोज पालीवाल ने मस्ज़िद के इमाम इदरीस, मुतवल्ली मोहम्मद फ़ाज़िल इलाके के रहने वाले फैज़ल, इलियास, मोहम्मद कदीर, शब्बू और आतिफ समेत 24 अज्ञात लोगों पर लॉकडाउन के उल्लंघन के आरोप में धारा 188 और 1897 के एपेडेमिक एक्ट की धारा 3 में एफआईआर दर्ज कराई. आपको बता दें कि गौतमबुद्ध नगर में कोरोना वायरस पैर पसारता नजर आ रहा है. सोमवार को जिले में चार और मरीज कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए. इसी के साथ नोएडा में कुल 37 लोग कोरोना पॉजिटिव हैं जिनका इलाज अलग-अलग अस्पतालों में चल रहा है. जबकि प्रदेश्‍ में अब कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 88 पहुंच गई है.
Loading...