गोद में बीमार बेटी और रोड पर वर्दीवाली की ड्यूटी, वाकई कमाल हैं शिल्पी!!

कोरोना जैसी आपदा से निपटने के लिए अब लोग तैयार दिख रहे हैं। लोग घरों में खुद को लॉकडॉउन किए हुए हैं, वहीं जो लोग अनुसरण नहीं कर रहे उन्हे पुलिस की कार्रवाई सहनी पड़ रही है। सच तो यह है कि इस समय प्रधानमंत्री की लॉकडॉउन की अपील के साथ सभी के जीवन को सुरक्षित करने की जिम्मेदारी पुलिस के कंधो पर दिख रही है। कानपुर देहात की एक महिला कांस्टेबल जो बखूबी अपनी डयूटी को निभाने के साथ अपने परिवार के दायित्वों का भी बखूबी निर्वहन कर रही हैं। कई कठिनाइयों का सामना करते हुए कानपुर देहात की पुलिस लोगों की हिफाजत कर खुद को खतरे में डाले हुए है।
लॉकडॉउन होने के बाद पुलिस को जगह जगह मुस्तैद कर दिया गया है। वहीं कानपुर देहात के अकबरपुर में डयूटी कर रही एक महिला कांस्टेबल शिल्पी दोनों दायित्वों को भाली भांति निभा रही हैं। डयूटी के दौरान उनकी बेटी की तबीयत खराब हो गई। सूचना मिलने के बावजूद काफी समय तक वह डयूटी पर रही। इसके बाद उन्होंने कुछ समय निकाला और फिर बेटी को गोद में उठाकर इलाज के लिए अस्पताल पहुंची। हालांकि लॉकडॉउन की स्थिति में वाहन न मिलने पर बेटी को गोद में लेकर पैदल ही अस्पताल के लिए निकल पड़ी।

बेटी को दिखाने के बाद फिर उन्होंने ड्यूटी का फर्ज निभाया। उनके दोनों दायित्वों के निर्वहन को देख एवं काम करने का जज्बा देख विभागीय साथी पुलिस कर्मी जमकर सराहना कर रहे हैं। हालांकि उनका यह जज्बा लोगों के लिए सन्देश है कि वह और उनके जैसे और कई खाकीधारी सामने संकट से खतरा मोल ले लेंगे, लेकिन आपकी सुरक्षा करेंगे। उन्होंने अपील की, कि मौजूदा समय में स्थिति की गंभीरता को समझिए और सरकार व प्रशासन का साथ देते हुए घर में ही खुद का व अपनों के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। जिससे देश के सभी लोग सुरक्षित रहें।
Loading...