Lockdown : इन मजदूरों को मिला एक दयालु मालिक, संकट की घड़ी में पहले ही बांट दी मजदूरी

लॉकडाउन में पलायन की खबरों के बीच हरियाणा के बहादुरगढ़ से एक राहत की खबर आई है। यहां की एचएल सिटी कंपनी ने उद्यमियों और व्यवसायियों के लिए एक मिसाल पेश की है। कंपनी में करीबन 500 श्रमिक काम करते हैं, लेकिन एक भी श्रमिक ने लॉकडाउन में पलायन नहीं किया। सभी श्रमिक एचएल सिटी में ही है। यहां उनको आज लॉकडाउन  के 7 दिनों का पैसा भी दिया गया है। यही नहीं उन्हें खाने पीने के समान की सुविधा भी की गई है और रहने के भी प्रबंध कंपनी की तरफ से किया गया है।
कंपनी ने श्रमिकों को उनका पूरा मेहनताना देने के साथ लॉकडाउन की अवधि में बिना काम के भी पैसा देना शुरू किया है। इससे श्रमिक बेहद खुश है। श्रमिकों का कहना है कि वह काम करने के लिए आए हैं, यहां उन्हें कोई दिक्कत नहीं है, इसलिए उन्हें लॉकडाउन का कोई भय नहीं है। उन्होंने कहा कि वह लॉकडाउन में सोशल डिस्टेंसिंग भी रख रहे हैं ताकि बीमारी को पास आने ही न दिया जाए।वहीें एचएल सिटी के निदेशक राकेश जून ने कहा कि श्रमिक की मेहनत से ही उन्हें ये मुकाम मिला है और मुसीबत की घड़ी में वो उनका साथ नहीं छोड़ सकते।

श्रमिकों को लॉकडाउन के दरम्यान भी खर्च और पैसा दिया जाएगा । एचएल सिटी में 470 श्रमिक डेली वेजिज पर काम करते हैं जिन्हें आज कंपनी की तरफ से पैसा दिया गया है। उन्होंने कहा कि राशन की पूरी व्यवस्था है और सब्जी के लिए रेहड़ी से व्यवस्था करवाई गई है। राकेश ने कहा कि अगर सभी उद्योगपति और व्यवसायी श्रमिकों के साथ उचित व्यवहार करें, उन्हें पैसा और सम्मान दे तो कोई पलायन नहीं करेगा। पलायन के बीच बहादुरगढ़ से आई ये तस्वीर न केवल सरकार के लिए राहत है बल्कि दूसरों के लिए नसीहत भी है कि मुश्किल घड़ी में कैसे अपनों और जरूरतमंदों की मदद की जाती है।
Loading...