प्रशांत किशोर ने कहा : लॉकडाउन सही हो सकता है, लेकिन 21 दिन तक.......?

दिल्ली से सटे गुरुग्राम में कोरोना को शनिवार को करारी शिकस्त मिली। लगातार चौथे दिन कोरोना का कोई नया केस सामने नहीं आया। दूसरी तरफ 10 कोरोना मरीजों में से पांच स्वस्थ हो गए। शहर में कोरोना के मरीजों की कुल संख्या अब सिर्फ पांच रह गई है। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के अनुसार इन पांच मरीजों के स्वास्थ्य में भी सुधार हो रहा है।
राजनीति रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा तीन सप्ताह तक चलने वाले देशव्यापी बंद को लेकर संशय व्यक्त करते हुए बुधवार को कहा कि यह उपाय सही हो सकता है पर थोड़ा लंबा है। प्रशांत ने बुधवार को ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लॉकडाउन फैसले की आलोचना करते हुए कहा कि लॉकडाउन का फैसला सही हो सकता है लेकिन 21 दिन बहुत ज्यादा हैं। उन्होंने पूछा कि क्या 21 दिन लॉकडाउन करने का कोई वैज्ञानिक प्रमाण है जिससे कोरोना के खिलाफ जंग जीती जा सके? बिना जांच, आइसोलेशन और चिकित्सा के कोरोना को कैसे रोका जा सकेगा।

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन से लक्ष्य हासिल होगा कि नहीं यह तो पता नहीं पर इससे लोगों की जिंदगी और रोजरोटी जरूर बर्बाद हो जाएगी। जे़डीयू के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर प्रहार करते हुए कहा, ‘‘दिल्ली और अन्य कई जगहों पर बिहार के सैकड़ों गरीब लोग लॉकडाउन की वजह से फंसे हुए हैं। नीतीश कुमार जी जब दुनिया भर की सरकारें अपने लोगों की मदद कर रही हैं, बिहार सरकार इनलोगों को इनके घरों तक पहुंचाने अथवा जहां ये लोग हैं वहीं कुछ फ़ौरी राहत की व्यवस्था क्यों नहीं कर रही।

इससे पहले प्रशांत किशोर ने अपने एक ट्वीट में सीएम नीतीश कुमार को भी निशाने पर लिया था। कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे के कारण पूरे देश में लॉकडाउन है। इस दौरान बिहार के रहने वाले हजारों लोग देश के दूसरे हिस्सों में फंसे हुए हैं। उन्होंने अपने ट्वीट में बिहार के सीएम पर इस मामले में कुछ राहत नहीं पहुंचाने की बात कही थी। अपने ट्वीट में उन्होंने शेम ऑन नीतीश कुमार लिख डाला।

प्रशांत किशोर ने अपने ट्वीट में लिखा, 'दिल्ली और अन्य कई जगहों पर बिहार के सैकड़ों गरीब लोग लॉकडाउन की वजह से फंसे हुए हैं। नीतीश कुमार जी, जब दुनिया भर की सरकारें अपने लोगों की मदद कर रही हैं, बिहार सरकार इन लोगों को इनके घरों तक पहुंचाने अथवा जहां ये लोग हैं वहीं कुछ फ़ौरी राहत की व्यवस्था क्यों नहीं कर रही है?' प्रशांत किशोर ने अपने इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए 'शेम ऑन नीतीश कुमार' हैशटैग शेयर किया है।