रात 2 बजे फरिश्ता बनकर आई ग्वालियर पुलिस... प्रसव पीढ़ा से करहा रही महिला को हॉस्पिटल पहुंचाया

लॉकडाउन में पत्नी को अस्पताल ले जाने साधन नहीं मिला तो एफआरवी पर तैनात पुलिसकर्मी इस मुसीबत के वक्त आगे आए। वह उनके घर पहुंचे और दर्द से कराह रही प्रसूता को अस्पताल में भर्ती कराया। लूटपुरा निवासी अजय चौहान एक फैक्ट्री में काम करते हैं। शुक्रवार-शनिवार रात करीब 1.30 बजे पत्नी ज्योति को प्रसव पीड़ा हुई। 
पत्नी को अस्पताल लेकर जाने के लिए उन्होंने साधन तलाश किया, लेकिन लॉकडाउन के चलते कुछ मिला नहीं। फिर 108 एंबुलेंस को फोन किया, लेकिन वह नहीं आई। उन्होंने कह दिया कि प्राइवेट अस्पताल नहीं ले जाते। ज्योति का प्राइवेट इलाज चल रहा था इसलिए वह वहीं जाना चाहते थे। फिर उसने डायल 100 से मदद मांगी। कुछ मिनट में एफआरवी 16 वहां पहुंच गई। एफआरवी पर तैनात आरक्षक वीरेन्द्र गुर्जर, मुनेन्द्र भदौरिया और पायलट राजेश भदौरिया महिला और उसके पति को अस्पताल लेकर गए।

रात करीब 1.30 बजे ज्योति को अस्पताल में भर्ती कराया। करीब दो घंटे बाद 3.40 पर ज्योति ने बेटे को जन्म दिया। "एफआरवी की बदौलत ज्योति सही समय पर अस्पताल पहुंच गई। एफआरवी में तैनात पुलिसकर्मी मसीहा बनकर आए। मेरी पत्नी को अस्पताल तक पहुंचाया। पुलिस कर्मियों की जितनी प्रशंसा की जाए कम है।"- राजेश भदौरिया, प्रसूता का पति