लॉकडाउन में दिल्ली में डॉक्टर ने कर लिया आत्महत्या, मिला 3 पेज का सुसाइड नोट

दक्षिण दिल्ली के देवली इलाके में शनिवार सुबह 52 वर्षीय डॉक्टर राजेंद्र सिंह के आत्महत्या मामले में शाम होते-होते नया मोड़ आ गया। परिजनों ने पुलिस को 3 पेज का सुसाइड नोट मुहैया कराया है, जिसमें आम आदमी पार्टी के स्थानीय विधायक प्रकाश जारवाल और उनके सहयोग कपिल नागर पर धमकाने और मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का आरोप लगाया गया है। 
मिली जानकारी के मुताबिक, घर के नजदीक ही अपना क्लीनिक चलाने वाले डॉक्टर राजेंद्र सिंह ने सुबह 5-6 बजे के बीच घर की छत आत्महत्या कर ली। राजेंद्र ने छत पर टंगी रस्सी के सहारे फांसी का फंदा बनाकर जान दे दी। जानकारी लगने पर परिजनों से पुलिस को फोन के जरिये सूचित किया। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान भिजवा दिया और आगे की जांच शुरू कर दी है।
बताया जा रहा कि उनके घर पर रहने वाले किरायदार ने सुबह 5.30 राजेंद्र सिंह का फांसी के फंदे पर लटकते देखा तो घरवालों को सूचित किया। वहीं, परिजनों ने डॉक्टर के लिखे 3 सुसाइट नोट भी पुलिस को सौंपे हैं, जिसमें AAP विधायक पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। परिजनों ने देवली से आम आदमी पार्टी विधायक प्रकाश जारवाल और उनके सहयोगी कपिल नागर पर धमकी देने के साथ प्रताड़ित करने का भी आरोप लगाया है। 
परिजनों की लिखित शिकायत पर पुलिस ने AAP विधायक प्रकाश जारवाल और उनके साथ कपिल नागर के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। परिजनों का कहना है कि राजेंद्र ने आत्महत्या करने से पहले सुसाइड लिखा था। परिजनों ने सुसाइड नोट का हवाले देते हुए AAP विधायक प्रकाश जारवाल और उनके सहयोगी कपिल नागर पर धमकाने का आरोप लगाया है, साथ ही कहा है कि दोनों की धमकी और प्रताड़ने के चलते ही डॉक्टर ने आत्महत्या जैसा बड़ा कदम उठाया।
परिजनों से मिली जानकारी के मुताबिक, डॉक्टर राजेंद्र सिंह बेहत शांत स्वभाव के थे। आसपड़ोस में उन्हें बेहद सम्मान की दृष्टि से देखा जाता था। वह काफी समय से दुर्गा विहार में अपना क्लीनिक चलाने के साथ कॉन्ट्रैक्ट पर टैंकर लगाते थे। डॉक्टर ने दिल्ली जल बोर्ड में कॉन्ट्रैक्ट पर कई टैंकर लगा रखे थे। बताया जाता है कि टैंकर को स्थानीय विधायक ने अपने रसूख के बल पर हटवा दिया था। विधायक पर आरोप यह भी आरोप लगा है कि वह डॉक्टर से मोटी रकम की मांग कर रहा था।