रेलवे ने उठाया बड़ा कदम, 3 मई के बाद रेलवे कर सकता है कुछ ऐसा काम...

लॉकडाउन के कारण भारतीय रेलवे की यात्री ट्रेनों का परिचालन पूरी तरह से बंद है। 3 मई तक देश में लॉकडाउन हैं, ऐसे में लॉकडाउन के बाद ट्रेनें चलेंगी या नहीं इसे लेकर अंतिम फैसला रेल मंत्रालय और रेलवे बोर्ड करेगा। वहीं इस बीच IRCTC से ट्रेनों की टिकटों की बुकिंग और कैंसिलेंश को लेकर भारतीय रेलवे ने नया बदलाव किया है। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन(IRCTC) से अगले आदेश तक टिकटों की बुकिंग बंद कर दी गई है। IRCTC  के माध्यम से लाखों यात्रियों ने ई-टिकट बुक करवाए, लेकिन लॉकडाउन के कारण ट्रेन रद्द होने पर टिकटों को कैंसिल करवाना पड़ा। 
रेलवे मंत्रालय ने अब ऑनलाइन ट्रेन टिकट बुकिंग पर रोक लगा दी है, लेकिन आप रोक लगा दी है, बस टिकटों को आईआरसीटीसी से रद्द करवा सकते हैं। टिकट कैंसिल करवाने के दौरान ऑनलाइन रेल टिकट पर लगने वाले सुविधा शुल्क की वापसी नहीं की जाएगी। आपको बता दें कि ऑनलाइन टिकट बुकिंग पर आपको 15 से 30 रुपए का सुविधा शुल्क देना पड़ता है। लॉकडाउन की वजह से रद्द ट्रेनों के टिकटों पर यह चार्ज नहीं लौटाया जाएगा। 

लगातार हो बार यात्रियों को लॉकडाउन की वजह से अपनी टिकट रद्द करवानी पड़ी है। ऐसा बार-बार ना हो इसलिए रेल मंत्रालय ने IRCTC की वेबसाइट पर टिकटें बुक करवाने पर ही रोक लगा दी है। अगले आदेशों तक अब ऑनलाइन टिकटों की बुकिंग पर रोक लगा दी है। आप IRCTC की वेबसाइट से टिकट कैंसिल करवा सकते हैं। आपको बता दें कि 30 अप्रैल तक करीब 32 लाख रेल टिकटें देशभर में बुक की गई जो अब लॉकडाउन की अवधि बढ़ने के कारण रद्द हो गई है। हालांकि इन टिकटों के रद्द होने के बावजूद सिर्फ सुविधा शुल्क की बदौलत रेलवे की खाते में करीब 4.50 करोड़ रुपए आ गए है। 

रेलवे टिकटों की कैंसिलेशन और ट्रेनें रद्द होने की वजह से रेलवे को लाखों करोड़ों का नुकसान हुआ है। आपको बता दें कि 14 से 30 अप्रैल तक उत्तर रेलवे के 21.17 लाख यात्रियों ने आईआरसीटीसी से टिकट बुक कराई, लेकिन दूसरी बार लॉकडाउन बढ़ाए जाने के बाद टिकट कैंसिल करवाना पड़ा। देश में 3 मई तक लॉकडाउन है, लेकिन रेलवे के नियम के मुताबिक अगस्त तक की टिकट बुक हो सकती है, लेकिन अगस्त तक की भी बुकिंग रोक दी गई है।