लॉकडाउन : ग्वालियर से 40 लोगों को लेकर आई बस खराब, धक्का लगाने पर भी नहीं हुई चालू!

लॉकडाउन के बाद अहमदाबाद, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई से मजदूरों का पलायन थमने का नाम नहीं ले रहा। प्रतिदिन 400 से 500 लोग इन महानगरों से चलकर भिण्ड पहुंच रहे हैं। कोई लोडिंग वाहनों से आ रहा है कोई साइकिल तो कोई परिवार के साथ 350- 400 किमी का रास्ता तय कर पैदल ही आ रहा है। पुलिस का सामना ना हो इसलिए लोग एप्रोच रोडों से पैदल चलकर सीधे गंाव पहुंच रहे हैं इन लोगों की स्क्रीनिंग नहीं हो पा रही इससे कोरोना संक्रमण का खतरा कई गुना बढ़ रहा है। पलायन ने २१ दिवसीय लॉकडाउन को भी एक प्रकार से असफल कर दिया है।रविवार सुबह 11 बजे दिल्ली, इंदौर, भोपाल से 15-20 लोगों का जत्था चलकर लहार चुंगी पहुंचा, लेकिन गांव पहुंचने के लिए कोई वाहन नहीं था। डेढ़ घंटे के बाद एक कंैटर लहार की ओर जाने के लिए लश्कर रोड से टर्न हुई बड़ी संख्या में लोग सवार होने के लिए टूट पड़े। कुछ लोगों को तो ड्राइवर की कै बिन में जगह मिल गई तो कुछ पीछे सवार हो गए। चालक ने भी मजबूरी का फायदा उठाकर मनमाना किराया वसूला। इसी प्रकार दोपहर 12 बजे सिटी सूत्र सेवा ग्वालियर की बस अहमदाबाद से आए 40 यात्रियों को लेकर जिला अस्पताल पहुंची।

सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए सभी की थर्मल स्क्रीनिंग की गई। जांच खत्म हुई तो बस में तकनीकी खराबी आ जाने से धक्का लगाना पड़ा। दो घंटे मशक्कत के बाद सभी लहार रवाना हो गए। सभी अहमदाबाद में कारोबार करते हंै कोई कंस्ट्रक्शन लेबर है कोई पानीपूरी बेचकर अपना परिवार चलाता है। बाजार बंद एंव कामधंधा खत्म हो जाने से भूखें मरने का भय इन्हें अपने घर तक खींच लाया है। सुबह से देर शाम तक लोगों का आना जाना लग रहा है।

Loading...