"कोई सैंपल मत देना", मस्जिद से हुआ ऐलान किया और फिर 50 लोगों ने घेर लिया...

इंदौर के बाद बेंगलुरु में भी स्वास्थ्यकर्मी पर हमला हुआ। कृष्णावेणी नाम की आशा स्वास्थ्यकर्मी ने बताया, इलाके में एक पॉजिटिव केस आने के बाद हम पिछले 14 दिनों से सर्वे कर रहे थे। तभी अचानक कोई आया और पूछने लगा​ कि आप ये जानकारिां क्यों ले रहे हैं। हमने बताया कि एक पॉजिटिव केस है। उन्होंने हमें सारी जानकारियां देने को कहा। इसके बाद उन्होंने मस्जिद में घोषणा की कि कोई जानकारी मत देना। 

उसके बाद वो सभी घरों से बाहर आए और मुझ पर हमला किया, मेरा बैग और मोबाइल छीन लिया। मैं खुश हूं कि 5 लोगों को गिरफ्तार ​किया गया है। उन्हें मस्जिद में घोषणा नहीं करनी चाहिए थी हम समाज की भलाई के लिए काम करते हैं। 45 साल की स्वास्थ्यकर्मी ने बताया, वह बुधवार शाम को बेंगलुरु के आरके हेगड़े नगर के पास सादिक नगर में गई थीं। वहां 50 से ज्यादा लोगों ने उन्हें घेर लिया और मारपीट की। इस मामले में पुलिस ने एक्शन लेते हुए 5 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। 

मध्य प्रदेश के शहर इंदौर के टाटपट्टी बाखल में बुधवार कोरोना संक्रमितों की जांच करने पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम पर पथराव किया गया। स्वास्थ्यकर्मी वहां से जान बचाकर भागे। पुलिस ने पत्थर फेंकने वाले आरोपियों पर एक्शन लिया है। हमला करने वालों पर राज्य सरकार रासुका के तहत कार्रवाई करेगी। शिवराज ने कहा कि ऐसा करने वाले लोग इंसान नहीं, इंसानियत के दुश्मन हैं। हम इन्हें सख्त सजा देंगे।  

मध्य प्रदेश में कोरोना के 107 मरीज सामने आ चके हैं। इसमें सबसे ज्यादा इंदौर में 63 केस सामने आए। इसके बाद जबलपुर में 8, उज्जैन में 5 और राजधानी भोपाल में 3 केस सामने आए हैं। 3 मार्च की सुबह 12 बजे तक कोरोना के 2586 केस आ चुके हैं। 73 लोगों की मौत हो चुकी है। 192 लोग ठीक हो चुके हैं। महाराष्ट्र, तमिलनाडु और दिल्ली के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। महाराष्ट्र में कोरोना के 423, तमिलनाडु में 309 और दिल्ली में 293 मामले सामने आए हैं।
Loading...