कोरोना असर : आगरा में 8 हजार वाला लक्जरी कमरा, आठ सौ रुपए का एक क्वारंटीन रूम!

यूपी में सबसे ज्यादा पर्यटकों से गुलजार रहने वाली आगरा नगरी पर इन दिनों कोरोना का प्रकोप सबसे ज्यादा चल रहा है. बड़ी संख्या में यहां विदेशी कोरोना पाजिटिव मिले हैं वहीं बाहर से आए लोगों ने यहां स्थानीय निवासियों को भी इस वायरस का प्रकोप सौंपा है. यूपी में सबसे ज्यादा पर्यटकों से गुलजार रहने वाली आगरा नगरी पर इन दिनों कोरोना का प्रकोप सबसे ज्यादा चल रहा है. 
बड़ी संख्या में यहां विदेशी कोरोना पाजिटिव मिले हैं वहीं बाहर से आए लोगों ने यहां स्थानीय निवासियों को भी इस वायरस का प्रकोप सौंपा है. प्रशासन ने आगरा के फाइफ स्टार होटलों के कमरों को कोरोना पाजिटिव लोगों के लिए क्वारंटीन रूम मुहैया कराने के लिए अग्रहीत किया है. इन होटलों में आठ सौ रुपए से लेकर 13 सौ रुएये में क्वारंटीन रूम मिल रहा है. जिला प्रशासन ने आगरा के 17 होटलों में जिनमें रेडिसन ब्लू, हावर्डपार्क प्लाजा, रिट्रीट होटल, शिल्पग्राम होटल, नोवा होटल शामिल हैं, इनमें कुल 548 कमरे हैँ जिसे भुगतान पर क्वारंटीन रूम के रूप में उपयोग में लाया जा सकता है. 

व्यस्त सीजन में इन होटलों में लक्जरी रूम आठ सौ रुपए से लेकर 15 हजार रूपए प्रतिदिन के रेट पर उपलब्ध होते हैं. इसके अतिरिक्त आगरा जिला प्रशासन ने नौ होटलों में भी कमरे अधिग्रहीत किए हैं जहां कोरोना संदिग्ध या पाजिटिव मरीजों से कोई भी पैसा नहीं लिया जाएगा. आगरा के जिलाधिकारी पी. एन. सिंह बताते हैं “आगरा के होटलों को अधिग्रहीत करके यहां नि:शुल्क और पेड दोनों तरह से क्वारंटीन रूम तैयार किए गए हैं. इनमें कुल 2755 बेड का इंतजाम है. यहां भोजन, पानी और इलाज की मुफ्त व्यवस्था है.”

उधर प्रयागराज जिला प्रशासन ने भी बड़े पैमाने पर होटलों को अधिग्रहीत करने की तैयारी शुरू की है. जिलाधिकारी भानु चंद्र गोस्वामी बताते हैं कि होटलों का अधिग्रहण नो प्रॉफिट-नो लॉस पर होगा. इन होटल के कमरों को मेडिकल गाइडलाइन्स के अनुरूप ही क्वारंटीन रूम के रूप में तैयार किया जाएगा. स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में ये क्वारंटीन रूम काम करेंगे