कोरोना वायरस पीड़ित महिला ने दिया स्वस्थ बच्चे को जन्म, और फिर मोबाइल पर देखा बच्चे का मुंह

गुजरात के राजकोट में एक 9 माह की गर्भवती महिला कोरोना वायरस की चपेट में आ गई। उसने स्वास्थ्य केंद्र में खुद की जांच कराई तो रिपोर्ट पॉजिटिव मिली। जिसके बाद डॉक्टरों ने उसे भर्ती कर लिया। दूसरी ही दिन उसे प्रसव पीड़ा हुई। तब नर्सेस की मदद से उसने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया। उस नवजात को तुरंत मां से दूर कर उसका अलग से सैम्पल लिया गया। उसमें कोरोना के लक्षण नहीं मिले, तो डॉक्टर खुश हुए।
हालांकि, वह महिला अपने बच्चे को नहीं देख पाई थी, जिससे उसे वहम हो गया कि उसका बेटा जीवित नहीं है। इससे वह रोने लगी। लेटे-लेटे दिन भर रोई। डॉक्टरों ने भी उसे खूब सांत्वना दी कि बच्चा सुरक्षित है। उसके बाद शाम को डॉक्टरों ने एक मोबाइल पर उसके बच्चे को लाइव दिखाया। तब महिला ने राहत की सांस ली। संवाददाता ने बताया कि, यह घटना राजकोट स्थित स्वास्थ्य केंद्र की है।

एक डॉक्टर ने बताया कि, वह महिला कोरोना से संक्रमित हो गई थी। बावजूद इसके उसने स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया। हमने बच्चे को पैदा होते ही उस महिला से अलग कर दिया था, ताकि उसे कोई खतरा न हो। लेकिन वह महिला उस बच्चे को अपने पास नहीं देखकर, उसे मरा हुआ समझ महिला रोने लगी। जिसके चलते बाद में मोबाइल के माध्यम से उसे संतान का मुंह दिखाया गया। अब वह खुश है।
इससे पहले उस महिला ने बच्चे से मिलने के लिए डॉक्टर से जिद की। मगर, उसे इसके लिए मना कर दिया गया था। अब बताया जा रहा है कि, उस महिला की वृद्ध मां भी कोरोना से पीड़ित है। हालांकि, उस वृद्ध मां को भी नहीं पता कि उसकी गर्भवती बेटी अब मां बन चुकी है और वो भी कोरोना से संक्रमित है। उन दोनों का अलग-अलग इलाज चल रहा है।