कोरोना ने खींच दिया पिता और बेटी के बीच लक्ष्मण रेखा, घर के बाहर खाना खाने को मजबूर पिता....

कोरोना वायरस के खिलाफ देश इस समय जंग लड़ रहा है और देश के कई सारे लोग इस जंग में सरकार का साथ दे रहे हैं। डॉक्टर, पुलिस, मीडिया और अन्य पेशों से नाता रखने वाले लोग हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं कि इस वायरस को देश में फैलने ना दिया जाए। ये सभी लोग अपने परिवार वालों से दूर रहकर अपना फर्ज निभा रहे हैं। हाल ही में सोशल मीडिया में एक फोटो काफी वायरल हो रही है। इस फोटो में एक पुलिस वाला अपने घर के बाहर बैठकर खाना खा रहा है। ताकि उसके परिवार वाले उससे दूर रहें और उसके संपर्क में ना आ सके।
इस फोटो में पुलिस वाले की बेटी अपने पापा को घर के अंदर से देख रही है और चाहते हुए भी अपने पापा के पास नहीं जा पा रही है। इस तस्वीर को लोगों द्वारा खूब शेयर किया जा रहा है। ये तस्वीर इंदौर शहर में तैनात एक पुलिसकर्मी की है। इस तस्वीर में इंदौर के तुकोगंज थाने के टीआई निर्मल श्रीवास हैं। निर्मल श्रीवास अपनी बच्ची से दूरी में बैठकर खाना खा रहे हैं। वहीं उनकी बच्ची घर के अंदर से उन्हें देख रही है। निर्मल श्रीवास के अनुसार कोरोना के संक्रमण को देखते हुए वो अपने परिवार और बेटी से दूर रह रहे हैं। ताकि उनको संक्रमण ना लग सके।
श्रीवास इस समय देश को अपनी सेवा दे रहे हैं और रोज घर से बाहर जाते हैं। वक्त लगने पर वो घर में आकर खाना खाते हैं। वहीं जब भी वो घर आते हैं तो उनकी बेटियां उनसे घर के अंदर आने की जिद करती हैं। लेकिन वो घर के बाहर ही रहते हैं। दरअसल ड्यूटी के समय श्रीवास रोज कई लोगों के संपर्क में आते हैं और लोगों के संपर्क में आने से वायरस होने का खतरा रहता है। इसलिए वो अपने घरवालों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हैं। श्रीवास के अनुसार उनके जरिए घर के किसी सदस्य को वायरस ना लगे इसके लिए वो सावधानी बरत रहे हैं और परिवार वालों से दूर रह रहे हैं।
कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए श्रीवास के थाने में भी खूब सतर्कता बरती जा रही है और पूरे स्टॉफ के लिए सैनेटाइजर और मास्क की व्यवस्था की गई है। गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के इंदौर शहर से कोरोना के कई मामले सामने आ रहे हैं और इंदौर शहर में रोज कई संख्या में लोगों के कोरोना टेस्ट किए जा रहे हैं। दुनिया भर से भी ऐसी कई तस्वीरें सामने आ रही हैं जहां पर डॉक्टर और पुलिस वाले अपने परिवार वालों से दूरी बनाकर रख रहे हैं। ताकि उन्हें कोरोना वायरस ना हो सके। ये लोग दिन रात बस यही कोशिश कर रहे हैं कि इस स्थिति को जल्द से जल्द काबू में लाया जा सके और सरकार की मदद की जा सके।