लॉकडाउन में फल बेचने वालों ने लगा लिए ऐसे बैनर, लोगों में मच गया खलबली

झारखंड के जमशेदपुर से कुछ फलों की दुकान की ऐसी तस्वीरें सामने आईं, जिस पर बवाल मच गया और उस पर खूब राजनीति हो रही है। उस फल विक्रेता के खिलाफ पुलिस ने क्षेत्र में सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने के लिए मामला दर्ज किया है। इस पर बीजेपी की तरफ से आपत्ति जताई गई है।
दरअसल, फलों की दुकान के आगे एक बैनर लगा हुआ था, जिस पर लिखा था, 'विश्व हिन्दू परिषद की अनुमोदित हिन्दू फल दुकान।' इस बैनर पर भगवान की तस्वीरें भी थीं। इन तस्वीरों को ट्विटर पर पोस्ट करते हुए एक शख्स ने लिखा, 'यह हमारे राज्य के लिए बहुत शर्म की बात है कि हम ऐसे हिंदू मुस्लिम नफरत में जा रहे हैं। अब झारखंड सरकार या राज्य के अधिकारियों की बजाय ये लोग व्यवसाय करने की अनुमति देंगे।'

इस पर झारखंड पुलिस ने जमशेदपुर पुलिस से मामले का संज्ञान लेने का कहा। इस पर जमशेदपुर पुलिस ने कार्रवाई के बाद कहा, 'मामले का तत्काल संज्ञान लेते हुए संबंधित फल दुकानों से पोस्टर हटवा दिया गया है तथा संबंधित दुकानदारों के विरुद्ध कदमा थाना द्वारा धारा–107 द0प्र0स0 के तहत निरोधात्मक कार्रवाई की जा रही है।' 

पुलिस की इस कार्रवाई पर बीजेपी ने सवाल उठाए। पूर्व मुख्यमंत्री रघुबर दास ने ट्वीट कर कहा, 'फल विक्रेताओं के साथ किया गया पुलिस का व्यवहार निंदनीय है। तुष्टिकरण की राजनीति के कारण आजीविका चला रहे छोटे छोटे व्यापारियों को तंग करना बंद करे राज्य सरकार। व्यापारियों पर किया गया केस भी तत्काल वापस ले, नहीं हो इसके खिलाफ बीजेपी झारखंड आंदोलन करेगी।' बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने फोटो ट्वीट करते हुए इसमें कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को ही घसीट लिया और कहा, 'अब तो स्पष्ट है की सोनिया गांधी को “हिन्दू” शब्द से ही नफ़रत है। किसी को कोई शक??' 

आज रघुबर दास ने ट्वीट कर कहा, 'आज पीड़ित फल विक्रेताओं से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मिला। उन्हें हरसंभव मदद के लिए आश्वस्त किया। साथ ही प्रशासनिक अधिकारियों से बात हुई। फल विक्रेताओं पर कोई केस दर्ज नहीं होगा।' पुलिस की कार्रवाई के बाद ट्विटर पर भी ये मसला खूब ट्रेंड करता रहा। लोगों ने अलग-अलग तरीके से अपनी प्रतिक्रियाएं दीं। लोगों ने उन तस्वीरों को पोस्ट किया, जिनमें दुकानों के नाम धर्म के आधार पर हैं।