लॉकडाउन : गेहूं की खड़ी फसल में आग, डेढ़ लाख का नुकसान!

हार्वेस्टर का ऊपरी हिस्सा बिजली की हाइटेंशन लाइन से टकरा गया। इससे गेहूं की खड़ी फसल में आग लग गई। आग से खेत में खड़ी फसल राख हो गई। आगजनी में करीब डेढ़ लाख रुपए कीमत का गेहूं जल गया। घटना जिगना थाना क्षेत्र के जिगना मौजे की है। सूचना मिलने के बावजूद दमकल देरी से पहुंची तब तक सारा गेहूं जल चुका था। हालांकि किसान ने त्वरित कार्रवाई करते हुए आसपास की फसल हार्वेस्टर से कटवा दी, जिससे ज्यादा नुकसान होने से बच गया।
जिगना मौजे में किसान उमेश मिश्रा के खेत में गेहूं की फसल खड़ी हुई थी। सोमवार की दोपहर हार्वेस्टर से फसल काटी जा रही थी कि हाइटेंशन लाइन की ऊंचाई कम होने से हार्वेस्टर का ऊपरी हिस्सा टकरा गया। बिजली के तार से निकली चिंगारी फसल पर गिरी और देखते ही देखते फसल जलने लगी। आग से करीब दस बीघा की फसल जलकर राख हो गई। आग लगने की सूचना ग्रामीणों ने बड़ौनी दमकल को दी पर वह आधे घंटे तक मौके पर नहीं पहुंची और दस बीघा की फसल जल गई। आग में करीब 80 क्ंिवटल गेहूं की फसल जल गई। 

इसकी कीमत डेढ़ लाख रुपए आंकी गई है। राजस्व अधिकारियों ने ग्रामीणों का फोन रिसीव नहीं किया। मजबूरी में लोगों ने जिला पंचायत के एसीईओ धनंजय मिश्रा को फोन किया तो उन्होंने ग्राम पंचायत के सचिव दीपक भार्गव, पटवारी देवेन्द्र शर्मा व एएसआई महेश श्रीवास्तव मौके पर पहुंचे। मामले की सूचना जब पटवारी ने बड़ौनी नायब तहसीलदार गोविंद सिंह को दी तो उन्होंने यह कहते हुए संदेह जाहिर किया कि आग नरवाई में लगी है। हैरानी की बात तो यह है कि पटवारी की रिपोर्ट नहीं मानी, जबकि साफ जाहिर हो रहा है कि आग में गेहूं जला है न कि केवल नरवाई।
Loading...