लॉकडाउन में कुत्ते और इंसान दोनों की एक ही ज़रूरत... सड़क पर गिरे दूध के लिए दोनों की ऐसी ललक

देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है. वहीं, लॉकडाउन से एक बड़ा तबका बुरी तरह से जूझ रहा है. सरकार और दूसरे समाजिक संगठनों के तमाम प्रयासों के बाद भी एक बड़ी आबादी खाने के लिए हर पल संघर्ष कर रही है. इसका एक उदाहरण उत्तर प्रदेश के आगरा जिले के रामबाग में देखने को मिला.
आगरा के रामबाग चौराहे पर एक दूध वाले का कनस्तर गिर गया. इससे दूध वहीं सड़क पर बिखर गया. लेकिन, इतने में ही वहां कुछ कुत्ते आकर दूध पीने लगे. इसी बीच एक शख्स भी आया और एक मिट्टी के बर्तन में दूध बंटोरने लगा. एक तरफ़ वहां जुटे कुछ कुत्ते दूध पी रहे थे तो दूसरी तरफ वह शख़्स दूध बंटोर रहा था. इसका वीडियो पत्रकार कमाल खान ने ट्वीट किया है.
बता दें कि देश में  21 दिन का लॉकडाउन 14 अप्रैल को खत्म हो रहा है. इस बीच प्रधानमंत्री ने इसे  मई तक बढ़ाने का निर्देश दे दिया है. इन दिनों ग़रीब और मजदूर वर्ग सबसे ज्यादा परेशान हैं. उनके पास काम नहीं है. पैसे नहीं है. जरूरत की चीजें नहीं हैं.
हालांकि, शासन-प्रशासन सहित दूसरे सामाजिक संगठन और लोग आगे आकर बड़े पैमाने पर लोगों की मदद कर रहे हैं. लेकिन, ये नाकाफी ही साबित हो रही है. इसके पीछे एक बड़ी आबादी का ग़रीबी रेखा के नीचे होना है.