लॉकडाउन में दोस्तों से न मिल पाने से हताश होकर इस लड़के ने फांसी लगा दिया जान

मृतक की फाइल फोटो व मौके पर मौजूद पुलिस
एक ओर जहां लॉकडाउन कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए दुनिया भर में सबसे कारगर हथियार साबित हुआ है तो वहीं दूसरी ओर लॉकडाउन के कारण कई लोगों को परेशानियों को सामना भी करना पड़ रहा है। ऐसा ही एक अजीबोगरीब घटनाक्रम कानपुर के गोविंद नगर थानांतर्गत दबौली इलाके में सामने आया है।
यहां लॉकडाउन के कारण अपने दोस्तों से न मिल पाने से हताश होकर एक युवक ने फांसी लगाकर जान दे दी। मनोज भटनागर डिफेंस कर्मी हैं उनके चार बेटों में सबसे बड़ा बेटा आयुष (23) बीबीए पास है। गुरुवार को आयुष ने लॉकडाउन के कारण अपने दोस्तों से न मिल पाने से हताश हो छज्जे पर चादर से फांसी लगाकर जान दे दी। मोहल्ले के लोगों ने जब आयुष का शव पहली मंजिल के छज्जे से लटका देखा तो हड़कंप मच गया। 

इलाकाई लोगों ने घटना की सूचना मृतक के पिता को दी। मृतक के पिता ने बताया कि आयुष लॉकडाउन में अपने दोस्तों से मिलने जाने की जिद करता था। इस बात को लेकर अक्सर तनाव में रहता था। कई बार समझाने पर भी उसका तनाव कम न हुआ। आयुष के फांसी लगाने से मां मनीषा और भाइयों का रो-रोकर बुरा हाल है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।