मौलाना के बेटे ने व्यापारी के बेटे के हाथ में काट लिया, और चेहरे पर थूंक भी दिया!

कंकरखेड़ा के लखवाया गांव में शनिवार रात आठ बजे गुटखा और बीड़ी का बंडल नहीं देने पर मौलाना के बेटों ने दुकानदार को बुरी तरह पीटा। मौलाना के एक बेटे ने दलित समाज के दुकानदार के हाथ में काट लिया और चेहरे पर थूका। यही नहीं विरोध करने पर दुकानदार के घर पर पथराव किया गया। सूचना पर पहुंची पुलिस मौलाना और उसके तीनों बेटों को थाने ले गई। पीड़ित ने आरोपितों के खिलाफ तहरीर दी है। गांव में सांप्रदायिक तनाव बना हुआ है। 
लखवाया गांव निवासी धर्मवीर पुत्र मंगते ने कंकरखेड़ा थाने में दी तहरीर में बताया कि शनिवार रात उसकी दुकान बंद थी। गांव निवासी रहीश पुत्र इस्लामुद्दीन ने एक युवक के संग धर्मवीर के पुत्र अरुण से गुटखा और बीड़ी का बंड़ल मांगा। अरुण ने लॉकडाउन की वजह से दुकान बंद होने और दोनों चीज नहीं होने की बात कही। आरोप है कि इसी बात पर रहीश गाली गलौज करने लगा। अरुण व अन्यों ने विरोध किया तो देख लेने की धमकी देकर चला गया। थोड़ी देर बाद रहीश अपने भाईयों व पिता के साथ आया और घर में मौजूद अरुण को खींचकर बाहर ले गए। 

इसके बाद उसको लाठी-डंडों से बुरी तरह पीटा। रहीश ने अरुण के हाथ में काट लिया। इससे अरुण के हाथ में गहरा घाव भी हो गया। इसके बाद चेहरे पर थूक दिया। शोर शराबे के बीच ग्रामीण जमा हुए तो हमलावर भाग गए। पुलिस मौके पर पहुंची और घेराबंदी कर हमलावरों को दबोचा। इंस्पेक्टर बीपी सिंह का कहना है कि बीड़ी का बंडल लेने पर झगड़ा हुआ था। तहरीर के आधार पर आरोपितों पर केस दर्ज किया जाएगा। 
Loading...