ताड़ी पीकर उड़ा रहे थे लॉकडाउन का माखौल, ऐसी सजा मिली कि जीवन भर रहेगा याद!

एक तो लॉकडाउन, दसूरा राज्य में पहले से लागू शराबबंदी... लेकिन इसके बाद भी दरभंगा के तीन युवक इन दोनों नियमों की धज्जियां उड़ाते पकड़े गए। जिसके बाद पुलिस ने ऐसी सजा दी कि वो जीवन भर नहीं भूल पाएंगे। दरअसल जिले के सिंहवारा प्रंखड के भरवाड़ा बौका चौक पर एक बाइक पर तीन युवक जा रहे थे। जिन्हें पुलिस ने पकड़ लिया। तीनों युवक नशे में थे। पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की तो बताया कि शराब नहीं तारी पी है। बता दें कि तार-खजूर से निकलने वाला रस बिहार में तारी कहलाता है। यह नशीला होता है। मजदूर सहित निम्न आय वर्ग के लोग बिहार में इसका सेवन करते हैं। 
लॉकडाउन और शराबबंदी दोनों कानून को तोड़ने वाले युवाओं को पकड़ कर पुलिस ने उन्हें अजीब सजा दी। पहले तो पुलिस ने तीनों युवकों को कान पकड़ कर उठक-बैठक कराया। उसके बाद मार्केट में तीनों को घुटने के बल सड़क पर बैठाया। फिर घुटने के बल तेजी से भागने को कहा। पीछे से पुलिस के जवान युवकों पर डंडे बरसा रहे थे। चोट से बचने के लिए तीन नशेबाज तेजी से घुटने के बल भागते दिखे। ये नजारा देखने के लिए मार्केट में लोगों की भीड़ जमा हो गई। कुछ दूर तक ऐसे ही दौड़ाने के बाद तीनों युवकों ने पुलिस से माफी मांगी और कहा कि आगे से वो ऐसा कोई काम नहीं करेंगे। जिसके बाद पुलिस ने तीनों को छोड़ दिया। 
  
उल्लेखनीय हो कि राज्य में 22 मार्च की शाम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लॉकडाउन की घोषणा की थी। जिसके बाद 24 मार्च से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की थी। इस अवधि में चिकित्सा, पुलिस, प्रेस, बैंक के अलावा सब्जी, दूध, दवा सहित अन्य आवश्यक सेवाओं छोड़कर अन्य सभी कार्य पर पाबंदी लगा दी गई है। लॉकडाउन का सख्ती से पालन के लिए बिहार पुलिस सड़कों पर है। लगातार माइकिंग के जरिए लोगों से घरों में ही रहने की अपील की जा रही है।