लॉकडाउन में पंजाब में सभी पुलिसकर्मियों ने लगाई 'हरजीत सिंह' के नाम की प्लेट, जानिए क्या है वजह!

पंजाब पुलिस के 80 हजार जवान आज सुबह जब "मैं वी हां हरजीत सिंह" का नारा लगाया, तो 1.60 लाख हाथ एसआई हरजीत सिंह का हौंसला बढ़ाने के लिए उठ खड़े हुए। पीजीआई चंडीगढ़ में भर्ती एसआई हरजीत सिंह को पंजाब पुलिस सोमवार को अनूठा सम्मान दे रही है। बता दें कि कुछ दिन पहले पटियाला में कर्फ्यू पास मांगने पर निहंगों ने एसआई हरजीत सिंह का हाथ काट दिया था। इन्हीं एसआई हरजीत सिंह के सम्मान में पंजाब के डीजीपी दिनकर गुप्ता समेत 80 हजार पुलिसकर्मियों की नेम प्लेट पर सोमवार को उनके नाम की पट्टिका लगाई है। 
सभी पुलिसकर्मी अपनी नेम प्लेट पर हरजीत सिंह के नाम की पट्टी लगाकर ड्यूटी दे रहे हैं। इसके साथ ही "मैं वी हां हरजीत सिंह (मैं भी हूं हरजीत सिंह) का नारा लगा रहे हैं। हालांकि बता दें कि 8 घंटे की मशक्कत के बाद पीजीआई चंडीगढ़ के डॉक्टरों ने उनका हाथ जोड़ दिया था। लेकिन वे फिलहाल अस्पताल में ही हैं। डीजीपी गुप्ता ने कहा कि यह मुश्किल समय में हरजीत सिंह व अन्य पुलिसकर्मियों का हौसला बढ़ाने का प्रयास है। रविवार को भी पुलिस ने इसका अभ्यास भी किया।

यहां बता दें कि सभी पुलिसकर्मी एसआई हरजीत सिंह की नेम प्लेट लगाकर नारा तो लगा ही रहे हैं, लेकिन लोग भी पुलिस का सहयोग कर रही है। नाकाबंदी पर तैनात पुलिसकर्मियों के अलावा एक पुलिस टीम शहरों में मार्च भी निकाल रही है। मोटरसाइकिल सवार पुलिसकर्मियों के हाथ में स्लोगन की तख्तियां हैं। इनमें "मैं वी हां हरजीत सिंह" के नारे के अलावा लोगों से कर्फ्यू में सहयोग करने और सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने की अपील कर रहे हैं।
हरजीत सिंह ने जीवन का सबसे बड़ा सम्मान बताया
इधरी पीजीआई में भर्ती एसआई हरजीत सिंह ने इसे अपने जीवन का सबसे बड़ा सम्मान बताया। उन्होंने कहा- मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि मुझे जीवन भर याद रहने वाला ऐसा सम्मान मिलेगा। मैं डीजीपी, एसएसपी साहब सहित पूरी फोर्स और लोगों का आभारी हूं। मैंने जिंदगी में किसी को कभी ऐसा सम्मान मिलते नहीं देखा। उन्होंने सभी का धन्यवाद किया। उधर पीजीआई के डॉक्टरों का कहना है कि हरजीत सिंह की हालत में लगातार सुधार हो रहा है।

यहां बता दें कि पटियाला के एसएसपी मनदीप सिंह सिद्धू ने बताया कर्फ्यू के कारण नेम प्लेट वाला बैज उपलब्ध नहीं हो सकता था। ऐसे में सभी कर्मियों ने कागज के प्रिंट्स निकालकर नेम प्लेट बनाई है। यह प्लेट सुबह से रात लगाई जाएगी। पुलिस लाइन में तैनात डॉक्टर और चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी भी हरजीत सिंह के नाम की पट्टिका लगाकर दिनभर काम करेंगे।