लॉकडाउन में प्रकृति का कहर: आकाशीय बिजली गिरने से चार युवकों की हो गई मौत

उमरिया के कोतवाली थाना अंतर्गत रविवार को आकाशीय बिजली की चपेट में आने से चार युवकों की मौके पर मौत हो गई। वहीं तीन लोग गंभीर रूप से जख्मी हो गए। जिन्हे इलाज के लिए जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। जहां उनकी हालत गंभीर बताई जा रही है। जानकारी के अनुसार रविवार को युवक विद्युत लाइन मेंटेनेन्स का काम कर रहे थे। इसी दौरान लपक-गरज के साथ आंधी-पानी शुरू हो गया। जिससे बचने के लिए मजदूर पेड़ के नीचे छिप गए। इसी दौरान आकाशी बिजली गिरने से युवक उसकी चपेट में आ गए। 
हादसे में चार युवकों की मौत हो गई वहीं तीन घायल हो गए। घायलों को घटनास्थल से लेकर जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। मृतकों के नाम मुकेश सिंह उम्र 20 वर्ष, अंकुर सिंह उम्र 30 वर्ष, करण सिंह उम्र 28 वर्ष, मुकेश बसोर उम्र 22 वर्ष बताया जा रहा है। सभी उमरिया जिले के उजान गांव के निवासी हैं। बताया जा रहा है कि विद्युत ठेकेदार अतुल सिंह के द्वारा इन्हें काम पर लगाया गया था। देर शाम तक मृतकों के परिजनों के लिए किसी प्रकार की क्षतिपूर्ति घोषित नही की गई न ही ठेकेदार द्वारा कोई मदद पहुंचाई गई।

जिले में हो रही बारिश के चलते किसानों की चिंता बढ़ गई है। कई जगह गेहूं की फसल कटाई गहाई के लिए शेष है। किसानों का अनाज व भूसा खुले में पड़ा हुआ है। ऐसे में इस तरह की जोरदार बारिश ने किसानों को मुश्किल में डाल दिया है। करकेली में लगभग 1 घंटे के बारिश से किसानों की फसलों को काफी नुकसान हुआ है। मौसम के बदलते करवट के चलते इस वर्ष किसानों की भारी समस्याओं का सामना करना पड़ा रहा है।

तेज बारिश और तूफान से खलेसर तिराहे हाइवे में एक बड़ा पेड़ जमीदोज हो गया। यातायात बाधित होता तभी समय पर यातायात अमला पहुंचा, और बड़े पेड़ को मार्ग से हटाने का प्रयास किया। इसके अलावा तूफान से शहर में लंबे समय तक विद्युत बाधित रही। वहीं नगर सहित दूरदराज ग्रामीण क्षेत्रो में भीषण वर्षा और तूफान ने गरीबो के भी कई मकानों को ध्वस्त कर दिया है। इसके अलावा किसानों को भी भारी क्षति हुई है। जिले में किसानों की खलिहान में रखी गेंहू की फसल के भी चौपट होने की खबर है।