लॉकडाउन में बंद थी ज्वैलरी की दुकान तो जमीन में ही दबाया पूरे सामान को..

लाॅकडाउन में सूने मकानों में चोरियां करने में शुक्रवार को पकडे गए चोरों ने कई राज खोले हैं। गिरोह ने खुलासा किया दिखावे के लिए पूरा गिरोह रेल में चाय भी बेचता था। इस बहाने मुसाफिरों के सामान को चुराते थे। इन दिनों हर तरफ सन्नाटा है तो सूने मकानों में चोरियों करना भी आसान था। इसलिए वैष्णोपुरम में वीर सिंह गुर्जर और उनके ही घर के पास रहने वाले योगेश कौरव के मकान में चोरी की। 
दोनों गांव गए थे इसलिए उनके घर में घुसने में केाई खुटका नहीं था। बेफ्रिक होकर उनके दरवाजे के ताले तोडकर वारदातें की। हजीरा टीआई आलोक परिहार ने बताया लाॅकडाउन की वजह से गिरोह वीर सिंह और योगेश कौरव के घर से चोरी गहने नहीं बेच पाए। जिन खरीदारों से उनकी सेटिंग है उनकी दुकानें इन दिनों बंद है। इसलिए कुछ जेवर गदाईपुरा में जमीन खोदकर दबाया और बाकी गहने गैंग मेंबर विनोद राठौर ने अपने घर के पास गडढे में दबाए थे। 

वीर सिंह के घर से चोरो को करीब 17 हजार रुपया और योगेश के घर से डेढ हजार रु मिले थे। पैसों से चोर गिरोह ने शराब और स्मैक का नशा कियां। चोरों के घर की तलाशी में विदेशी कंरसी के डालर भी मिले है। गिरोह ने बताया कि यह करंसी रेल में सफर करने वालों के पर्स और बैग चोरी करने में मिली थी। उसे रुपए में बदलवाने में पकडे जाने का खतरा था इसलिए घर में ही छिपा कर रखा था।