बेटे के अंतिम संस्कार के बीच ही पिता की हुई मौत, कोरोना के खौफ के कारण प्रशासन ने रोका था संस्कार!

मध्यप्रदेश के अलीराजपुर में एक अनोखी घटना सामने आई है। यहां एक पुत्र की मौत के बाद पिता की भी मौत हो गई। जब बेटे के अंतिम संस्कार की तैयारियां चल रहीं थी उसी दौरान पिता की भी मौत हो गई। दरअसल, स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र उदयगढ़ में उपचार के लिए लाए युवक की मौत हो गई। ग्राम अखोली के तड़वी फलिया निवासी 32 वर्षीय तोलिया बीते दो तीन दिन से उल्टी दस्त से पीड़ित था। शनिवार सुबह 7 बजे 108 एंबुलेंस से उसकी पत्नी गंभीर अवस्था में उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लेकर आई थी।
मेडिकल ऑफिसर डॉ मोती सिंह ने बताया कि उपचार के दौरान युवक की मौत हो गई। उसके अंतिम संस्कार की तैयारी चल रही थी तभी उसके 65 वर्षीय पिता दीप सिंह की मौत हो गई। पिता-पुत्र की मौत को कोरोना वायरस से जोड़कर देखने से आसपास के ग्रामीण सहम गए। हालाकि प्रशासन ने दोनों की मौत का कारण उल्टी-दस्त होना बताया है। पिता-पुत्र की मौत की जानकारी चौकीदार मेहर सिंह ने तत्काल राजस्व निरीक्षक बीएस मकवाना को दी फिर जानकारी मिलने पर कलेक्टर सुरभि गुप्ता ने तत्काल अंतिम संस्कार रूकवा दिया। उसके बाद जिला एवं स्वास्थ्य अधिकारी मौके पर पहुंचकर वास्तविकता का पता करने का निर्देश दिया। इसके बाद शाम 6 बजे सीएमएचओ डॉ प्रकाश ढोके, कोरोना विशेषज्ञ डॉ रायकवार मौके पर पहुंचे।

टीम ने दोनों शवों के सैंपल लिए। पूछताछ में सामने आया कि पिता-पुत्र सहित सभी परिजन करीब डेढ़ से अपने गांव में ही है। इससे पहले वे गुजरात मजदूरी करने गए थे। इस दौरान एहतियात के तौर पर चिकित्सा दल ने घर एवं आसपास के लोगों का स्वास्थ्य अधिकारियों और प्रशासन ने ग्रामीणों को दोनों की मौत को कोरोना से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए। कलेक्टर सुरभि गुप्ता ने बताया कि ग्राम अखोली में पुत्र और पिता की मौत को देखते हुए लोगों में दहशत है। वहीं, कलेक्टर ने कहा कि कोरोना की वजह से मौत की दहशत बेवजह है। इसके साथ ही उन्होंने लोगों से लॉकडाउन का पालन करने की अपील की है।