इस एक पैर ने लोगों को सीखा दिया "कोरोना से कैसे के बचा जाए", और सोशल डिस्टेनसिंग का पालन कैसे हो!

देश में हर दिन अलग-अलग इलाकों से सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाने वाली खबरें आती रहती हैं। लेकिन, मध्य प्रदेश से एक ऐसी तस्वीर देखने को मिली, जहां एक दिव्यांग ने लोगों का दिल जीतने वाले काम से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया। उसने नियम को बनाये रखने के लिए अपना कृत्रिम पैर खोलकर गोल घेरे में रख दिया।
भावुक कर देने वाली यह तस्वीर अशोकनगर जिले की है। जहां क्षेत्र के पूर्व विधायक के ऑफिस में राशन वितरण हो रहा था। इस दौरान 2 किलोमीटर दूर से बैसाखी के सहारे चलकर आया दिव्यांग भगवत सिंह राशन के लिए लाइन में लगा था। लेकिन, तेज धूप को वह सह नहीं पा रहा था। ऐसे में उसने अपने कृतिम पैर को खोलकर गोल घेरे में रखकर छांव में बैठ गया। वो नहीं चाहता था कि कोई उसपर दया करके उसके नंबर आने से पहले राशन दे।
जब कृत्रिम पैर पर पूर्व विधायक की नजर पड़ी तो उन्होंने भगवत सिंह को अपने पास बुलाया, कहा- तुम दिव्यांग हो, पहले आकर राशन ले सकते हो। लेकिन, उसने कहा- मैं नहीं चाहता था सोशल डिस्टेंस बिगड़े। इसलिए अपने नंबर के हिसाब से पैर को गोले में रख दिया है। युवक की बात सुनकर पूर्व विधायक ने उसे रिक्शे पर बैठाकर राशन के साथ घर पहुंचाया।
भगवत सिंह ने बताया- 5 साल पहले ट्रेन हादसे में उसका एक पैर कट गया था। परिवार में पत्नी, बेटा-बहू और दो पोती हैं। बेटा-बहू एक होटल में काम करते हैं। लेकिन, लॉकडाउन के चलते होटल बंद हो गया और घर में राशन भी खत्म हो गया। अब पेट भरने के लिए बैसाखी के सहारे इधर-उधर राशन मांगने जाता रहता हूं।