क्वारंटीन सेंटर में इस महिला को देख नेपाली अफसरों का पसीज गया दिल, कहा "अब और नहीं"

भारत नेपाल सीमा सोनौली बॉर्डर पर पांच दिनों से नौतनवां इंटर कालेज क्वारंटीन सेंटर में रुकी गर्भवती नेपाली महिला को आखिरकार नेपाल जाने की अनुमति मिल ही गई। उसका पूरा परिवार एंबुलेंस से नौतनवां क्वारंटीन सेंटर से रवाना हो गया। इसके साथ ही दिल्ली डीएम द्वारा जारी कर्फ्यू पास के बाद जनकपुर निवासी एक परिवार सोनौली पहुंचा जिसे नेपाल के अधिकारियों ने जाने की अनुमति दी।
शुक्रवार की दोपहर क्षेत्राधिकारी राजू कुमार साव ने बताया कि नेपाल प्रशासन ने उच्चाधिकारियों के अनुमति के बाद नौतनवां क्वारंटीन सेंटर में पांच दिनों से रुकी एक गर्भवती महिला, दो बच्चों और पति के साथ एंबुलेंस से उन्हें नेपाल भेज दिया गया। इसी तरह जनकपुर निवासी चंदर के बहनोई की मौत हो गई है। दिल्ली डीएम द्वारा जारी कर्फ्यू पास से चलकर अपनी बहन और दो भांजी के साथ शुक्रवार सुबह सोनौली पहुंचे। 

जिन्हें  नेपाल भेज दिया गया। उन्होंने बताया कि विकट परिस्थितियों में प्रशासन नागरिकों के मदद के लिए तैयार है। नेपाल के भैरहवां कस्बे में क्वारंटीन सेंटर में एक भारतीय महिला भी गर्भवती है, जिन्हें उनके घर पहुंचाने के लिए वार्ता चल रही है। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन का सभी लोग पालन करें। सोशल डिस्टेसिंग का ख्याल रखे, जिससे काफी हद तक महामारी से बचाव होगा।
Loading...