दिल्ली : जमातियों को लेकर भड़क गए लोग तो प्रशासन को करने पड़े दूसरी जगह शिफ्ट!

बागपत जनपद में कोरोना वायरस की रोकथाम कर रहा प्रशासन उस समय लोगों के निशाने पर आ गया जब विभिन्न राज्यों के 91 जमातियों को नगर की आबादी के अंदर क्वॉरंटाइन किया गया। इसका मालूम होने पर प्रशासन के खिलाफ लोगों में गुस्सा दिखाई दिया। जिसके बाद आनन-फानन में प्रशासन को सभी जमातियों को नगर से बाहर क्वॉरंटाइन करना पड़ा।
दरअसल, पुलिस प्रशासन लगातार दिल्ली निमामुद्दीन तब्लीगी जमात में शामिल हुए लोगों की धर—पकड़ करने में जुटा है। बुधवार को पुलिस द्वारा अभियान चलाया गया और मस्जिदों व मदरसों में रुके हुए लोगों की धरपकड़ की गई। शहर और आसपास क्षेत्रों से विभिन्न राज्यों के 91 जमाती मस्जिदों व मदरसों और चोरी-छुपे घरों में रुके हुए थे। पुलिस ने इन सभी की तलाश कर इनको बडौत शहर के गांधी रोड स्थित ऋषभदेव सभागार में बुलाकर चिकित्सकों द्वारा क्वॉरंटाइन किया गया। जैसे ही शहर के अंदर इन जमातियों को रखने की बात नगर के लोगों को चली तो उन्होंने प्रशासन के खिलाफ आपत्ति जाहिर की।

साथ ही शहर से बाहर रखने की मांग की। लोगों का कहना है कि कोरोना को लेकर जमातियों का ठीक ढंग से जांच नहीं हुआ है, इसलिए इन्हें आबादी से दूर रखा जाए। आपत्ति के बाद पुलिस प्रशासन ने सभी जमातियो को शहर से बाहर क्वॉरंटाइन किया। वहीं, मौके पर पुलिस बल तैनात किया गया है। सीओ बडौत आलोक सिंह का कहना था कि कई वजह से जमातियों का स्थान बदला गया है।
Loading...