कोरोना के मरीज़ों का पता लगाने गए डॉक्टरों ने सोचा नहीं होगा कि कोई ऐसा भी सलूक करेगा!

इंदौर के रानीपुरा इलाके का सीन. तस्वीर में आप उस डॉक्टर को देख रहे हैं, जिसने पुलिस को बताया कि लोग थूक रहे हैं, साथ नहीं दे रहे. मध्य प्रदेश का इंदौर. यहां पर कोरोना के अब तक 63 कन्फर्म मामले आ चुके हैं. सबसे ज्यादा मामले रानीपुरा इलाके से आए हैं. घनी आबादी वाला एरिया है, इसलिए संक्रमण तेज़ी से फैल रहा है. इसलिए हेल्थ अधिकारियों ने फैसला किया कि घर-घर जाकर कोरोना के संदिग्धों का पता लगाया जाए. लेकिन जब वो वहां पहुंचे, तो लोगों ने भद्दा बर्ताव किया. रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुछ ने तो डॉक्टर्स के सामने थूक दिया और उन पर चिल्लाया भी.
घटना 29 मार्च (रविवार) की है. ‘आज तक’ से जुड़े रिपोर्टर राहुल कारिया ने जानकारी दी कि आशा वर्कर्स और डॉक्टर्स की टीम रानीपुरा इलाके में पहुंची. बाहरी तरफ पुलिस के जवान बैरिकेडिंग के पास खड़े थे. अंदर जहां लोग रहते हैं, वहां डॉक्टर और आशा वर्कर गए. कोरोना के लक्षण वालों का पता लगाने, लेकिन लोगों ने साथ देने से मना कर दिया. कहा, ‘दवा लाए हो या ज़हर. हमें नहीं करानी जांच-वांच. दफा हो जाओ.’  किसी ने कहा, ‘सारी डॉक्टरी भुला देंगे.’

इंदौर के एक रिपोर्टर हैं आशु पटेल. वो भी रविवार को रानीपुरा इलाके में मौजूद थे, रिपोर्टिंग के लिए. उन्होंने तभी एक वीडियो रिकॉर्ड किया, जिसमें दिख रहा है कि एक डॉक्टर बस्ती वाले इलाके से निकलकर पुलिस के पास आते हैं. कहते हैं, ‘उधर लोग साथ नहीं दे रहे. उनमें से एक तो ऐसे हैं जिनका बेटा सरेआम हमारे सामने थूक रहा है. उसे मना किया तो लोग ऊपर से गालियां देने लगे.’
 
फिर पुलिसवाले डॉक्टर्स के साथ गए. तब कहीं जाकर लोगों का चेकअप हो पाया. इनमें से सात लोगों को हेल्थ वर्कर्स अपने साथ ले गए. अभी वो सभी लोग क्वारंटीन हैं. वहीं रानीपुरा इलाका पूरी तरह सील कर दिया गया है. लगातार पुलिस की टीम तैनात है. इसके अलावा और भी कुछ इलाकों में लोगों ने जांच करवाने से मना किया था, डॉक्टर्स का विरोध किया था.

मरीज़ भागे जा रहे हैं

इंदौर के MRTB अस्पताल से दो कोरोना पॉजिटिव मरीज़ भागे भी थे, हालांकि दोनों को बाद में खोज लिया गया. दोनों ही रानीपुरा के रहने वाले थे. 28 मार्च की रात एक मरीज भागा, जो दूसरे दिन खजराना मंदिर के पास पकड़ाई आया. दूसरा 29 मार्च की सुबह भागा, जो शाम को पकड़ाई आया. मध्य प्रदेश में कोरोना के 86 कन्फर्म मामले आ चुके हैं. इंदौर केंद्र बना हुआ है. छह लोगों की मौत हो गई है. रिकवर एक भी नहीं हुए.

Loading...