बनने चले थे लड़की, फेसबुक पर "पापा की परी निशा जिंदल" को पुलिस ने क्यों गिरफ्तार कर लिया?

फेसबुक पर ‘एंजेल प्रियाओं’ की कमी नहीं है. मतलब लड़की के नाम से फर्जी प्रोफाइल बनाकर खेल करने वाले शख्स. एक ऐसा ही व्यक्ति छत्तीसगढ़ के रायपुर में गिरफ्तार किया गया. फेक आईडी से सांप्रदायिक नफरत फैला रहा था. नाम रवि पुजार. फेसबुक नाम- निशा जिंदल. प्रोफाइल में उसने कथित तौर पर पाकिस्तान की एक मॉडल मिरहा पाशा की तस्वीर लगा रखी थी. कबीर नगर थाने में उसके ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया गया है. 
पुलिस ने उसकी असली फोटो फेसबुक पर लगवाई, जिसमें उसने लिखा, मैं पुलिस कस्टडी में हूं. मैं ही निशा जिंदल हूं. फर्जी प्रोफाइल के बायो में उसने ‘पापा की परी हूं’ टाइप चीज़ लिख रखी है. आरोप है कि उसकी कई दूसरी फेक फेसबुक प्रोफाइल हैं, लेकिन वो ज़्यादा सक्रिय नहीं हैं. फेसबुक पर उसके 4 हज़ार से ज़्यादा फ्रेंड हैं और 10 हज़ार से ज़्यादा लोग फॉलो करते हैं. उसकी फेसबुक प्रोफाइल सांप्रदायिक पोस्ट से भरी हुई है. 
रवि पुजार ख़ुद को इंजीनियरिंग का छात्र बताता है. पुलिस का कहना है कि 2009 से वो आईटी की पढ़ाई कर रहा है और लगातार फेल हो रहा है. रवि पुजार की फेसबुक प्रोफाइल. उसे 10 हज़ार से ज़्यादा लोग फॉलो करते हैं. रवि पुजार कबीरनगर के MIG फेज 68 में रहता है. मूलत: जशपुर ज़िले का है. इसके पिता पर्यावरण विभाग में हैं. उसका कहना है कि वो कंपटीटिव एग्जाम की तैयारी करता है. उसके ख़िलाफ धार्मिक भावना भड़काने के आरोप में धारा 295 और आईटी ऐक्ट में धारा 65 के तहत मामला दर्ज किया गया है.
रायपुर एसएसपी आरिफ शेख ने बताया कि पिछले डेढ़ महीने से इसकी शिकायत आ रही थी और वो बड़े दावे करके लोगों को गुमराह भी कर रहा था. उसने खुद को वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) और IMF से जुड़े होने का दावा किया था. उसके मोबाइल और लैपटॉप को जब्त कर लिया गया है और बैंक अकाउंट की भी जांच की जा रही है कि कहीं उसने पैसों की जालसाजी तो नहीं की है. फेसबुक पर उसकी आइडेंटिटी सामने आने के बाद लोग मजाकिया पोस्ट भी कर रहे हैं.