गांव में कोरोना वायरस संदिग्ध की मौजूदगी से मच गया हड़कम्प!

जलालाबाद क्षेत्र के गांव चंदेनामाल में एक संदिग्ध व्यक्ति की मौजूदगी से गांव में हड़कम्प मच गया। संदिग्ध के सम्बन्ध में ग्रामीणों ने क्षेत्र की जलालाबाद पुलिस व स्वास्थ्य विभाग की टीम को जानकारी दी। सूचना मिलते ही स्वास्थ्य विभाग और पुलिस मौके पर पहुंच गई।
जलालाबाद क्षेत्र के गांव चंदेनामाल के निकट जलालाबाद चंदेनामाल मार्ग पर एक संदिग्ध के घूमते फिरने से ग्रामीणों में हड़कम्प मच गया। भारी संख्या में ग्रामीण एकत्र हो गए। दाढ़ी कुर्ता पहने उक्त व्यक्ति को ग्रामीणों ने पहले कभी नहीं देखा था। उक्त संदिग्ध की हरक़तों से ग्रामीणों को ऐसा लगा कि ये व्यक्ति कोरोना वायरस से पीड़ित है और गांव में घुसने का प्रयास कर रहा हैं। कुछ ग्रामीणों ने संदिग्ध के गांव में न घुसने को लेकर युवकों को सतर्क किया एवं स्वस्थ्य विभाग और पुलिस को संदिग्ध युवक के बारे में जानकारी दी। 

सूचना मिलते ही डॉक्टर हुमायूँ खान के नेतृत्व सवास्थ्य विभाग की टीम सन्दिग्ध युवक की जांच करने पहुची इस दौरान जलालाबाद पुलिस चौकी प्रभारी पवन सैनी भी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। डॉक्टर ने संदिग्ध व्यक्ति का चेकअप किया और उससे बातचीत की। डॉक्टरों ने जांच करने के बाद बताया कि उक्त व्यक्ति में कोरोना के लक्षण नहीं है। यह व्यक्ति मानसिक रूप से बीमार है जिस कारण उल्टी-सीधी हरकतें कर रहा है। पूछताछ में इस व्यक्ति ने अपना नाम नासिर पुत्र हारून निवासी गांव शेरपुरा जनपद मुज़फ्फरनगर बताया। पुलिस ने शेरपुरा के प्रधान हाशिम से फोन पर बात की और मानसिक रूप से बीमार नासिर के बारे में जानकारी देकर बताया।

ग्राम प्रधान हाशिम ने मानसिक रूप से बीमार नासिर को गांव शेरपुरा का निवासी बताया। प्रधान ने पूरे मामले की जानकारी नासिर के परिजनों को दी जिसके बाद परिजन जलालाबाद पहुंचे। लिखा पढ़ी के बाद पुलिस ने नासिर को उसके परिजनों के सुपुर्द कर दिया और सख़्ती से हिदायत जी कि वह मानसिक रूप से बीमार नासिर का ध्यान रखें और उसे घर से बाहर ना निकलने दे इसके बाद नासिर के परिजन नासिर को अपने साथ गांव ले गए । गांव चंदेनामाल में मानसिक रूप से बीमार व्यक्ति की मौजूदगी को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं व्याप्त रही।