पुलिस के खिलाफ भ्रामक विडियो किया गया पोस्ट, और अब वह भेजा गया जेल!

उत्तर प्रदेश सरकार ने सोशल मिडिया पर अफवाह फैलाने व भड़काऊ बयान पोस्ट करने पर ऐसे लोगो पर सख्त कार्यवाही करने का पुलिस को निर्देश दिया है। जिससे कि इस महामारी पर कोई ऐसी अफवाह न फैले जिसके वजह से आमजन में किसी प्रकार का कोई गलत संदेश पहुंचे। इतनी सख्ती के बावजूद भी कुछ लोग सोशल मिडिया पर अफवाह फैलाने से बाज आ नहीं रहें। ऐसे लोगों पर अंकुश लगाने के लिए गाजीपुर जिले की करीमुद्दीनपुर पुलिस ने त्वरित कार्यवाही करते हुंए एक युवक को गिरफ्तार किया हैं।
करीमुद्दीनपुर थानाध्यक्ष दिव्य प्रकाश सिंह ने बताया की हमे सुचना मिली की एक युवक जिसका एकाउंट भीम राजभर के नाम से था। अपने फेसबुक पर पुलिस के खिलाफ भ्रामक विडियों पोस्ट किया था जो विडियो काफी पुराना व कहीं और का था। थानाध्यक्ष ने कहा कि इससे लोगों में पुलिस के खिलाफ इस लॉकडाउन के समय गलत संदेश जा रहा था । भीम राजभर के विरुद्ध थाने में मुकदमा पंजीकृत कराया गया था।मुखबिर कि सुचना पर थाने क्षेत्र के दुबिहा बजार से उसे पकड़ा गया हैं।

करीमुद्दीनपुर थानाध्यक्ष दिव्य प्रकाश सिंह ने बताया की कल शाम को क्षेत्र में भ्रमण के दौरान मुखबिर से सुचना मिली की भीम राजभर कहीं भागने के फिराक में दुबीहा बजार के रामलीला मैदान मे एक दुकान के पीछे छुप कर बैठा हैं। सूचना मिलते ही टीम के साथ दिव्य प्रकाश सिंह ,उप निरिक्षक पवन कुमार सिंह, हेड कॉन्स्टेबल लालबहादुर मोर्या, कांस्टेबल संजय प्रसाद साइबर सेल ,कांस्टेबल रामराज व शिव बाबु के साथ उक्त स्थान पहुंच आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया।

वहीं थानाध्यक्ष दिव्य प्रकाश सिंह ने बताया की आरोपी भीम राजभर निवासी नेवादा थाना करीमुद्दीनपुर के उपर कुछ दिन पहले मुकदमा पंजीकृत कराया गया था।जिसकी तलाश पुलिस को काफी दिनो से थी।करीमुद्दीनपुर थानाध्यक्ष ने बताया की उक्त आरोपी को निम्न धाराओं के तहत मुकदमा पंजीकृत कर जेल भेज दिया गया ।
Loading...