सूरत में पड़ोसियों ने महिला डॉक्टर के साथ जो किया वो जान लेंगे तो आपको इंसान होने पर भी शर्म आएगी!

डॉक्टरों और अन्य स्वास्थ्य कर्मियों ने कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए अपनी जान लगा रखी है. लोग उनका मनोबल बढ़ाने के लिये दीये जला रहे हैं, लेकिन कई लोग ऐसे हैं जो इनके साथ बदसलूकी कर रहे हैं. गुजरात के सूरत में सिविल अस्पताल में काम करने वाली एक महिला डॉक्टर को उनके पड़ोसी ने गालियां दीं. और उन्हें मोहल्ला छोड़ने को कहा. डॉक्टर का नाम संजीवनी है. आरोपी का नाम चेतन मेहता है. घटना 5 अप्रैल की है.
वीडियो में चेतन डॉक्टर के साथ बदसलूकी करता दिख रहा है. वह गालियां दे रहा है. वह डॉक्टर को पीटने की कोशिश करता भी दिखाई देता है. वह कई बार गुस्से में महिला की ओर दौड़कर आता है. वीडियो में नज़र आ रहा है कि वहां पर कई लोग खड़े होते हैं. लेकिन कोई भी आरोपी को नहीं रोकता. वहीं एक बुजुर्ग महिला आरोपी को चुप कराने की कोशिश करती है. लेकिन वह डॉक्टर को वीडियो बनाने से भी रोकती है. आरोपी कहता सुनाई देता है कि उसे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह डॉक्टर है. वह कहता है कि जो करना है कर लो. वह डॉक्टर से अपार्टमेंट से चले जाने को भी कहता है.

डॉक्टर संजीवनी ने मीडिया को बताया कि वह पाल इलाक़े की राजहंस व्यू नाम की बिल्डिंग में रहती हैं. उन्हें काफी समय से परेशान किया जा रहा था. सबसे पहले 23 मार्च को जब वह अस्पताल से आईं तो सोसायटी के लोगों ने उन्हें रोक लिया. उन्होंने कोरोना वायरस को लेकर आशंका जताई. इसके बाद उन्होंने मदद के लिए ट्वीट किया. स्थानीय विधायक हर्ष संघवी ने डॉक्टर की मदद की. उन्होंने डॉक्टर के साथ सोसायटी के लोगों को समझाया. उन्होंने बताया कि अस्पताल में पूरी सुरक्षा बरती जाती है. इसके बाद मामला शांत हो गया. लेकिन चेतन मेहता फिर भी परेशान करता रहा.
संजीवनी ने कहा कि 4 अप्रैल को चेतन ने सीढ़ियों में उन्हें रोक लिया. उसने कहा कि तुम्हें कोरोना है. तुम बाकी लोगों में भी कर दोगी. घर पर मत आया करो. इसके बाद 5 अप्रैल की शाम को संजीवनी अपने कुत्ते को घुमाने के लिए बाहर ले जा रही थी. तभी चेतन मेहता की पत्नी ने उसे रोक लिया. उसने आरोप लगाया कि संजीवनी के कुत्ते ने उस पर हमला किया. इस शोर-शराबे पर चेतन बाहर आ गया. वह गाली-गलौज करने लगा. इस पर डॉक्टर ने वीडियो बनाया. डॉक्टर की शिकायत पर पुलिस ने चेतन और भावना मेहता को हिरासत में लिया. लेकिन दोनों 6 अप्रैल को छोड़ दिया. पुलिस ने बताया कि शिकायत मिलते ही कार्रवाई की गई.