इटली से आए छात्र जा रहे थे आंध्र प्रदेश, लेकिन बॉर्डर पर ही किया क्वारंटाइन तो ग्रामीण भडक़ गए!

रायपुर के कवर्धा जिले के शनिवार रात लग्जरी बस से इटली के 37 छात्र मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ बॉर्डर पर चिल्फी पहुंचे। इटली का नाम सुनते ही जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की नींद उड़ गई। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 37 छात्रों की जांच कर उन्हें कन्या छात्रावास राहत शिविर में क्वारंटाइन किया। हालांकि राहत की बात यह रही कि उनमें कोई भी संदिग्ध नहीं मिला। 
छात्रों ने बताया कि वह आंध्रप्रदेश के निवासी है और अपने घर जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि वह ड़ेढ माह पूर्व वे सभी इटली से दिल्ली पहुंचे। दिल्ली में उनके उनका स्वास्थ्य जांच किया। 28 दिनों तक क्वारंटाइन में रखा गया। डॉक्टर्स जब पूरी तरह से संतुष्ट हो गए तो उन्हें स्पेशल पास जारी किया ताकि वह दिल्ली बॉर्डर पार कर सके। सुबह होते ही छात्रों की जानकारी जैसे ही चिल्फी के ग्रामीणों को हुई तो वह छात्रावास की ओर पहुंचे और मांग करने लगे कि इनको तुरंत ही यहां बाहर किया जाए। 

ग्रामीण डर गए कि कहीं वह भी वायरस की चपेट में न आ जाए। पहले तो पुलिस व प्रशासिनक अधिकारियों ने काफी समझाया, नहीं माने तो पुलिस ने हल्का बल का प्रयोग किया। हालांकि इस दौरान किसी को चोट नहीं आयी। छात्रों को दिल्ली से निकलने का पास था, लेकिन अन्य राज्यों में प्रवेश के लिए पास नहीं है। इसके चलते उन्हें क्वारंटाइन में रखा गया था। जांच के बाद उन्हें आगे जाने की इजाजत दे दी गई है।