लॉकडाउन में घूम रहा था नकली पुलिस कांस्टेबल, एक गलती से चढ़ गया असली पुलिस के हत्थे

पुलिस की वर्दी, गाड़ी में नीली बत्ती लगाकर घूमने वाले फर्जी आरक्षक को कवर्धा पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस को सूचना मिली थी कि एक युवक खुद को पुलिस वाला और एसडीएम का ड्राइवर बताकर लोगों को नौकरी लगाने का झांसा दे रहा है। पुलिस ने मुखबीर की सूचना पर छापा मारकर आरोपी रवि उर्फ धरमदास महंत, पिता फेकूराम महंत स्थाई निवासी खरमोड़ा थाना कोरबा, जिला कोरबा को गिरफ्तार कर लिया है। 
आरोपी वर्तमान में आदर्श नगर कवर्धा में रह रहा था। आरोपी ने दो लोगों को नौकरी लगाने के नाम पर एडवांस रुपए भी लिए थे। कवर्धा थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपी युवक नकली पुलिस वाला बनकर चोरी की गाड़ी में घूमता था। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि उसने स्कॉर्पियो गाड़ी को कोरबा जिले के ग्राम मोरगा से चुराया था। वहां बांगो थाना में आरोपी के खिलाफ अपराध दर्ज है। आरोपी के पास से आरक्षक की वर्दी, मार्कशीट, आधार कार्ड व अन्य दस्तावेज भी बरामद किया गया है।

आरोपी ने एक माह पूर्व ग्राम लोचन, थाना पिपरिया में जाकर दुखित निषाद एवं उसके भाई दीपक निषाद से 50,000 रुपए में चपरासी की नौकरी लगाने की बात की। दोनों से 4000 रुपए बतौर एडवांस लिया था। प्रार्थी की रिपोर्ट पर थाना कवर्धा की टीम ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।