लॉकडाउन में खेत से लौट रहे युवक को पुलिस ने ऐसा मारा कि उसके आंखों की रोशनी ही चली गई!

बिहार के बेगूसराय में एक बार फिर पुलिस का बर्बर चेहरा खुलकर सामने आया है. बेगूसराय के चेरिया बरियारपुर थाने की पुलिस पर यह आरोप लगा है कि एक युवक पर लॉकडाउन का उल्लंघन करने का आरोप लगाकर उसे जमकर पीटा. युवक की पिटाई के चलते आंखों की रोशनी चली गई. पीड़ित युवक ने लॉकडाउन के उल्लंघन की बात से इनकार करते हुए बताया कि जब वह खेत पर काम से जा रहा था तब उस दौरान पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी. पिटाई के दौरान युवक की आंख में डंडा लग गया और उसकी आंखों की रोशनी चली गई.
बेगूसराय जिले के चेरिया बरियारपुर थाना क्षेत्र के खंजापुर गांव निवासी नीरज कुमार ने चेरिया बरियारपुर थाना पुलिस पर पिटाई करने का आरोप लगाया है, साथ ही इस पिटाई से आंख की रोशनी चले जाने की बात कही है। दरअसल नीरज कुमार का आरोप है कि 8 अप्रैल को वह गेहूं कटवा कर घर लौट रहा था इस दौरान चौक पर लिट्टी खरीदने रूका था तभी पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी. 9 अप्रैल को बेगूसराय में चिकित्सक से दिखाने के बाद चिकित्सक ने उसे आंख की रोशनी चले जाने की बात कही है. 

इस मामले में पीड़ित नीरज कुमार ने एसपी को आवेदन भेजकर न्याय की गुहार लगाई है. युवक ने सोशल मीडिया पर भी अपना दर्द बयान किया है. इस मामले में थानाध्यक्ष पल्लव कुमार का कहना है कि पुलिस को देखकर भागने के दौरान युवक को चोट लग गई थी. गौरतलब है कि कुछ दिन पहले भी बेगूसराय जिले के ट्रैफिक डीएसपी ने सड़क पर गाड़ी खड़ी करने के आरोप में एक बस चालक की आंख फोड़ दी थी.