बेटा रोज लॉकडाउन का उल्लंघन करता था, इसलिए मां ने आम के पेड़ से बांध दिया बाइक

कोरोना के दौरान देश पर आए संकट को पार लगाने में हर घर में मां की भूमिका अब और भी अहम हो गई है. कटिहार के हसनगंज प्रखंड के कलसर पंचायत के वार्ड नंबर 4 के तीनगछिया गांव की रेणु देवी पिछले कुछ दिनों से लॉक डाउन के बावजूद अलग-अलग बहाना बनाकर मोटरसाइकिल लेकर बेटा विकास के घर निकलने से परेशान थीं. 
मां को लगता था कि उनका बेटा बेवजह विकास मोटरसाइकिल से मटरगश्ती करने निकलता है. इसके चलते कोरोना संक्रमण के खतरे के साथ-साथ लॉक डाउन कानून का उल्लंघन उन्हें बर्दाश्त नहीं हो रहा था. पहले तो मां ने कई बार बी.ए. पार्ट वन में पढ़ने वाले अपना बेटे विकास को समझाने की कोशिश की, लेकिन फिर भी जब बेटा नहीं माना तो उन्होंने इसकी शिकायत उसके पिता से कर दी. पिता ने मोटरसाइकिल को लोहे की चेन से बांधकर आम के पेड़ पर लटकवा दिया.

रेणु देवी कहती हैं कि उन्होंने कई बार मोटरसाइकिल की चाबी छुपाकर भी रखी थी, मगर बेटा दूसरी चाबी से मोटरसाइकिल खोलकर चला जाता था. यही वजह है कि उन्होंने अब सख्ती अपनाते हुए अपनी पति से इसकी शिकायत कर मोटरसाइकिल को अलग लोहे की चेन से बांधकर आम के पेड़ से बंधवा दिया है. पति प्रकाश मंडल भी पत्नी के शिकायत पर बेटे के मोटरसाइकिल को चेन से बांधकर कर रख दिया है. 

अब बेटे को भी अपनी गलती का अहसास हो रहा है. उन्हें लग रहा है आखिर मां-पापा उसकी ही भलाई के लिए ऐसा कर रहे हैं. दूसरी तरफ हसनगंज प्रखंड विकास पदाधिकारी मनीष कुमार श्रीवास्तव भी कहते हैं कि जब समाज से लॉक डाउन पालन करवाने का ऐसा मैसेज सामने आने लगे तो निश्चित तौर पर कानून को पालन करवाना आसान हो जाता है. वह कहते हैं कि रेणु देवी रोल मॉडल है और निश्चित तौर पर प्रशासन ऐसी मां को सम्मानित करेगी.