लॉकडाउन में जन्मी बच्ची सीधे "उड़कर" पहुंची अपनी मां के पास...

गुजरात में सरोगेसी या स्थानापन्न मातृत्व के जरिए पैदा हुई बच्ची को एयर एम्बुलेंस के माध्यम से बेंगलुरु लाया गया और उसे उसके माता-पिता को सौंप दिया गया। कोरोना वायरस की वजह से निराशा भरे समय में बच्ची को अपने गोद में लेकर दंपत्ति की खुशी का ठिकाना नहीं रहा।
डॉक्टर पूजा नदकर्नी सिंह ने बताया कि बच्ची का जन्म 29 मार्च को सरोगेसी के जरिए सूरत के एक अस्पताल में हुआ था और 17 दिन के बाद बच्ची के माता-पिता उसे देख पाए। कोरोना वायरस की वजह से बंद के कारण वह गुजरात आ पाने में सक्षम नहीं थे। उन्होंने बताया कि एक साल पहले बेंगलुरु की दंपत्ति ने उनसे आईवीएफ और सरोगेसी के जरिए बच्चे के लिए संपर्क किया था। बच्ची का जन्म 29 मार्च को हुआ।

दंपत्ति यहां नहीं पहुंच सके तो उन्होंने एयर एम्बुलेंस के माध्यम से बच्ची को बेंगलुरु भेज दिया। मंगलवार को डॉक्टर सिंह खुद बच्ची को लेकर हवाईअड्डे गई थीं और वहां एयर एम्बुलेंस से आए डॉक्टरों को बच्ची सौंप दी। अहमदाबाद हवाईअड्डा निदेशक अमन सैनी ने कहा कि एयर एम्बुलेंस दिल्ली से यहां पहुंचा था और बच्ची की सुरक्षा के सभी नियमों का पालन किया गया।