लॉकडाउन में मुखबिरी का आरोप लगाकर नक्सलियों ने सुकमा में युवक को मौत के घाट उतार दिया!

छत्तीसगढ़ के सुकमा में लॉकडाउन के बीच नक्सलियों की गतिविधि चालू है। बीते मंगलवार को नक्सलियों ने पुल को क्षतिग्रस्त कर दिया था । इसके बाद बुधवार को मुखबिरी के शक में एक युवक की हत्या कर दी है। इस घटना से क्षेत्र में लोगों में दहशत का माहौल है।
पुलिस अधीक्षक शलभ सिन्हा ने युवक की हत्या की पुष्टि करते हुए कहा कि नक्सलियों ने युवक की हत्या की हैं । उन्होंने बताया कि युवक पुलिस के लिए काम नहीं कर रहा था जबकि नक्सली बौखलाहट में इस तरह के अपराध को अंजाम दे रहे हैं। जिले के फुलबगड़ी थाना क्षेत्र के बडेशेट्टी गांव के सिंगनपारा निवासी युवक पोडियम सिंगा का हथियारबंद नक्सलियों ने अपहरण कर लिया उसके बाद गांव के समीप नक्सलियों ने जनअदालत लगाकर मौत की सजा सुना दी और हत्या करने के बाद शव को गांव के पास फेंक दिया।

बताया गया है कि युवक के शव पास में एक नक्सली पर्चा भी फेका गया। सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची। युवक की हत्या की जिम्मेदारी लेते हुए सुकमा के केरलापाल एरिया कमेटी ने पर्चा जारी किया है। नक्‍सलियों के इस पर्चे में है कि यह युवक 2017 से पुलिस का मुखबिर बनकर संगठन के खिलाफ सूचना दे रहा है, जिसके एवज में पुलिस पैसा दे रही है इसलिए 7 अप्रैल को जन अदालत लगाकर उसे खत्म कर दिया गया। नक्सलियों की वारदात के बाद ग्रामीणों में दहशत का माहौल है।