'बदला' लेने की मंशा से शराब पीकर मस्जिद गए और दनादन फायरिंग कर दिया!

गुरुग्राम में एक गांव है- धनकोट. यहां एक मस्जिद पर 5 अप्रैल की रात दनादन फायरिंग हुई. ये गोलियां पास के ही गांव में रहने वाले चार लड़कों ने चलाई थी. क्यों? क्योंकि उन्होंने फेसबुक पर धर्म से जुड़ा हुआ कोई वायरल पोस्ट पढ़ लिया था, जिसके बाद बदला लेने की मंशा से उन्होंने मस्जिद पर हमला कर दिया.
‘आज तक’ के रिपोरटर तन्सीम हैदर ने जानकारी दी कि करीब चार गोलियां चलाई गईं. हवाई फायरिंग भी की. एक गोली ने तो मस्जिद के गेट तक को चीर दिया. मस्जिद के मौलाना की मानें तो घटना रात करीब 12 बजे हुई. राहत वाली बात ये है कि किसी को भी गोली लगी नहीं. किसी की जान का नुकसान नहीं हुआ.

जानिए और फिर क्या हुआ?

पुलिस को जानकारी दी गई. अब गोली चलाने वाले तो फरार हो गए थे, लेकिन इलाके में लगे सीसीटीवी में सब कैद हो गया था. पुलिस ने उसे ही खंगाला. देखा कि एक गाड़ी से रात में चार लोग आए थे, गोलियां चलाईं और भाग गए. छानबीन हुई और चारों आरोपी पकड़ में आ गए. चारों के नाम- विनोद, पवन, रकेश और आलम हैं.
पुलिस के मुताबिक, वारदात वाली रात चारों ने शराब पी. फिर फेसबुक पर वायरल हो रहे कुछ धार्मिक पोस्ट के प्रभाव में आए और मस्जिद पर हमला कर दिया. चारों में से एक आरोपी विनोद के ऊपर पहले भी कई सारे केस दर्ज थे, जिनमें वो बरी हो चुका था. निजामुद्दीन के तबलीगी जमात वाले मामले के बाद से ही कई पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. इनमें से बहुतों में तो धड़ल्ले से किसी धर्म और उसे मानने वालों के खिलाफ नफरत भरी बातें लिखी हुई हैं.

दरअसल, कोरोना वायरस की वजह से देश लॉकडाउन है, लोगों को आइसोलेटेड रहने की सलाह दी जा रही है. इन सबके बीच निजामुद्दीन में मरकज़ में हज़ार से भी ज्यााद लोग साथ रह रहे थे. ये बात सामने आने के बाद मरकज़ में तबलीगी जमात में शामिल हुए लोगों की कोरोना टेस्टिंग शुरू हुई, जिसके बाद भारत में कोरोना के कन्फर्म मामले बढ़ने लगे. इसके बाद नफ़रत फैलाने वालों ने इसे भुनाना शुरू कर दिया. और नतीजा हम सबके सामने है.