कोटा : बसें पहुंचते ही खुशी से झूमे छात्र और छात्राएं, पुलिस अफसरों से बोले... "आपका था इंतजार"

आईएसबीटी आगरा से कोटा जाती रोडवेज की बस
कोटा में कोचिंग कर रहे आगरा और आसपास के लगभग 1700 छात्र-छात्राओं को लेने के लिए जैसे ही रोडवेज की बसें पहुंचे, वैसे ही उनके चेहरे खिल गए। आगरा से 200 बसों केसाथ गए पुलिस अधिकारियों को देखते ही छात्र-छात्राओं ने कहा, आपका कबसे इंतजार था? बसों के साथ गए क्षेत्राधिकारी रीतेश कुमार सिंह ने बताया कि छात्र उनसे ऐसे लिपट गए मानो उनके परिजन आ गए हों। वे सुबह से इंतजार कर रहे थे कि कब बसें आएं।
प्रदेश के तकरीबन आठ हजार छात्र-छात्राएं कोटा में फंसे हुए हैं। इन्हें लेने के लिए प्रदेश से शुक्रवार को 450 बसें रवाना की गई। 200 आगरा से गई। ये देर शाम वहां पहुंच गई। आईएसबीटी पर तड़के चार बजे से बसों को सैनिटाइजेशन कराने का सिलसिला शुरू हो गया था। हरेक बस में अधिकतम 30 छात्रों को बैठाया जाएगा। रोडवेज के अफसरों ने ऑपरेशन कोटा के दौरान चालक, परिचालकों का स्वास्थ्य परीक्षण करवाया। बस में पुलिसकर्मी, गार्ड व अटेंडेंट भी रवाना हुए।
प्रदेशभर के विभिन्न जिलों के कोटा में आईआईटी समेत विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में लगे छात्रों ने पहला लॉकडाउन तो गुजार लिया, लेकिन दूसरे लॉकडाउन के शुरू होने पर विद्यार्थियों ने भाजपा नेताओं से घर पहुंचाने की गुहार लगाई थी। इसके बाद मुख्यमंत्री ने 300 बसों को कोटा भेजने के निर्देश दिए।