कोरोना का कहर : कुत्ते से महिला ने छिन लिया रोटी....वजह जानकर सिहर उठेंगे आप!

कोरोना वायरस से मुकाबला करने में पूरा देश लगा हुआ है. लोग घरों में रहकर कोरोना का चेन तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन इन सबके बीच भूखमरी की भी समस्या सामने आ गई है. लॉकडाउन की वजह से लोग काम नहीं कर पा रहे हैं. गरीब दाने-दाने को मोहताज हो रहे हैं. ऐसी ही एक तस्वीर भागलपुर से सामने आई है. जहां पर कुत्ते की रोटी छीन ली जाती है, ताकि उनका पेट भर सके. भागलपुर में सड़क के किनारे एक रोटी का टुकड़ा पड़ा हुआ था. 
रोटी का टुकड़ा अमूमन लोग सड़क पर लावारिस पशुओं के लिए रखते हैं, ताकि उनका पेट भर सके. जो तस्वीर सामने आई है उसमें दिखाई देता है कि रोटी के टुकड़े के पास एक कुत्ता जा ही रहा होता है कि वहां दो महिलाएं आ जाती है. कुत्ते को वहां से भगाकर रोटी का टुकड़ा उठा लेती है. पूरा वाकया पास लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो जाता है. जो भी इस वीडियो को देख रहा है वो कांप जा रहा है. लॉकडाउन की वजह से गरीबों को खाना नहीं मिल रहा है. मजबूरन उन्हें सड़क पर फेंके गए भोजन उठाने पड़ रहे हैं.

लॉकडाउन में ऐसी कई कहानियां सामने आ रही है जो दिल को रुलाने वाली हैं. भागलपुर से ही एक और कहानी सामने आई है, जहां तीन अनाथ बहनों को खाना नहीं मिल रहा है. भागलपुर के बड़ी खंजरपुर तीन दिनों से भूखी तीन बहनों ने प्रधानमंत्री कार्यालय को फोन कर खाने की गुहार लगाई. जिसके बाद प्रशासन हरकत में आया और लड़कियों को भोजन मुहैया कराई गई. ये तीनों बहनें आस पड़ोस में काम करके पेट पालती थी. लेकिन लॉकडाउन की वजह से उनका काम छूट गया.

ये आलम सिर्फ बिहार का नहीं है, देश के कोने-कोने में दिहाड़ी मजदूरों को दो जून की रोटी नहीं मिल रही है. हालांकि केंद्र और राज्य सरकारें पूरी कोशिश कर रहे हैं कि कोई भी भूखा ना रहें. लेकिन बावजूद इसके सभी तक मदद नहीं पहुंच पा रही है. अगर आपके आसपास कोई जरूरतमंद दिखाई दे तो उसकी मदद जरूर कीजिए.