लॉकडाउन में फंसे पिता की फरियाद पर बेटी की मदद करने खुद ही आ गए DM और SP

सीतामढ़ी में डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा व एसपी अनिल कुमार कोरोना संकट की इस घड़ी में लोगों की मदद किस जज्बे के साथ खड़े हैं, रविवार को उसका नायाब उदाहरण देखने को मिला। डीएम-एसपी की पहल पर भीठामोड़ ओपी अंतर्गत रामनगर वार्ड नंबर-6 में तीन साल की बीमार बच्ची को मदद मिल सकी। गंभीर न्यूरो समस्या से यह मासूम ग्रस्त है और लॉकडाउ में उसकी दवा खत्म हो गई थी। दवा की सख्त जरूरत की बात डीएम को जैसे ही सूचना मिली उन्होंने तुरंत एसपी को इस बात की जानकारी देते हुए बच्ची की दवा उपलब्ध करवाने का निर्देश दिया। 
इतना ही नहीं डीएम ने यह भी कहा कि अगर अन्य कोई आवश्यक वस्तु की उस परिवार को आवश्यकता हो तो उसे भी उपलब्ध कराई जाए। बच्ची के पिता लॉकडाउन में मुंबई फंसे हैं, नाईट गार्ड की नॉकरी करते हैं। घर पर पत्नी रहती हैं। पिता ने डीएम से मदद मांगी थी। इसके बाद बच्ची के लिए दवा उसके घर तक पहुंचाई गई। डीएम-एसपी की इस पहल की काफी सराहना हो रही है। डीएम ने जिलेवासियों से अपील करते हुए कहा है कि लॉकडाउन में अपने-अपने घरों में रहें। सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन करें। जिला प्रशासन सदैव आपकी सहायता में तत्पर है।

रात में ही घर पर पहुंच गए बीडीओ व ओपी प्रभारी
डीएम के कहने के साथ ही एसपी ने भिट्ठा ओपी प्रभारी राजेश कुमार को इसके लिए निर्देश दिया। ओपी प्रभारी और सुरसंड बीडीओ मोहम्मद यूनुस सलीम शनिवार रात 11 बजे बच्ची के घर पहुंच गए। उसका कुशलक्षेम पूछा और दवा की पर्ची लेकर निकल गए। सुबह 10 बजते-बजते बच्ची की दवा खरीद कर पहुंचा भी दिया। प्रशासन की इस त्वरित पहल की बच्ची के परिजन सहित आस-पास के लोगों ने काफी सराहना की है। डीएम-एसपी ने भी बीडीओ और ओपी प्रभारी की ओर से समय पर दवाई उपलब्ध करवाने की प्ररशंसा की है।